रेत और झाग | Ret Or Jhag

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Book Image : रेत और झाग  - Ret Or Jhag

लेखकों के बारे में अधिक जानकारी :

खलील जिब्रान - Khalil Jibran

No Information available about खलील जिब्रान - Khalil Jibran

Add Infomation AboutKhalil Jibran

माईदयाल जैन - Maidayal Jain

No Information available about माईदयाल जैन - Maidayal Jain

Add Infomation AboutMaidayal Jain

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
रेत और फाग ११ हुआ, में प्रसन्‍न हूं कि वह मर गया है, क्‍योंकि यह संसार हम दोनों के लिए काफी नहीं है 1 চা রণ < में एक युग तक खामोश और ऋतुओं से अनभिज्ञ मित्र देश की रेत में पड़ा रहा । इसके वाद सूर्य ने मुझे जन्म दिया और मैं उठ खड़ा हुआ; श्रौर में दिनों में गाता हुआ और रातों में स्वप्न देखता हुआ नील नदी के किनारे-किनारे चलने लगा । भ्रव सूर्यं अ्रपनी सहलो किरणों से मुक्पर श्राक्रमण कर रहा है, जिससे में दुवारा मित्र की रेत में सो जाऊ । पर यह्‌ कितनी अ्रगोखी वात झौर पहेली है ! जिस सूर्य ने मेरे जीवन तत्वों को इकट्ठा किया, श्रव वही उन्हें च्लग- अलग नहीं कर सकता । फिर भी में हृढ़ता और विश्वास के साथ नील नदी के किनारे चल रहा हूं । © ৯ याद रखना भी मिलन का एक रूप है । < © भूल जाना भी स्वतंत्रता का एक रूप है । ॐ © हम काल को अ्रसंख्य नक्षत्रों की चाल से मापते हैं। और दूसरे आदमी काल को उन छोदे-छोटे यन्त्रों से मापते हैं जिन्हें वह अपनी जेवों में लिए फिरते हैं । फिर तुम ही मुझे बताओ, कि में और वह दोनों एक ही स्यान पर एक ही समयमे कंसे मिल सकते हँ?




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now