बुन्देलखण्ड के जैन मंदिर सांस्कृतिक अध्ययन | Bundelkhand Ke Jain Mandir Sanskritik Addhyan

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
श्रेणी :
शेयर जरूर करें
Bundelkhand Ke Jain Mandir Sanskritik Addhyan by मनीष श्रीवास्तव - Manish Shrivastav
लेखक :
पुस्तक का साइज़ :
411 MB
कुल पृष्ठ :
315
श्रेणी :

यदि इस पुस्तक की जानकारी में कोई त्रुटी है या फिर आपको इस पुस्तक से सम्बंधित कोई भी सुझाव अथवा शिकायत है तो उसे यहाँ दर्ज कर सकते हैं |

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

मनीष श्रीवास्तव - Manish Shrivastav के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है | जानकारी जोड़ें |

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(देखने के लिए क्लिक करें | click to expand)
यह नदी जबलपुर के पश्चिमी कैमूर पहाड़ों से निकलती छतरपुर, चरखारी तथा गौरीहार होती हुयी बांदा के निकट यमुना| इस नदी का प्राचीन नाम 'कर्णवती' था।.यह नदी पन्ना के गौरारी गांव के निकट पहाड़ से निकलती है और बांदा के... क भ पास यमुना नदी मेँमिल जातीदहै। के এর कट ॥ 4 पेसुनी (मंदाकिनी) : व (५ ২ 2 25 রাयह नदी बांदा के पास पाथराछारसे जाना जाता है। सीतापुर और चित्रकूट इसी नदी .... म्रदाकिनी है। इसे पयस्वनी नाम से भीजाना जाता है। 1 पल ০০88




  • User Reviews

    अभी इस पुस्तक का कोई भी Review उपलब्ध नहीं है | कृपया अपना Review दें |

    अपना Review देने के लिए लॉग इन करें |
    आप फेसबुक, गूगल प्लस अथवा ट्विटर के साथ लॉग इन कर सकते हैं | लॉग इन करने के लिए निम्न में से किसी भी आइकॉन पर क्लिक करें :