छन्द - प्रभाकर: | Chhand - Prabhakar

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
श्रेणी : , ,
शेयर जरूर करें
Chand - Prabhakar by Jagannath Prasad

एक विचार :

एक विचार :

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

जगन्नाथ प्रसाद शर्मा - Jagannath Prasad Sharma के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है | जानकारी जोड़ें |

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(देखने के लिए क्लिक करें | click to expand)
ाडाइकरापरचजकालकामकिनि दविकि टायर फ्िरसिलाअनििटी- दि न कदनिजििपंरनिम ..पो द अ नदक दम द्संत रद पार पका # पार ही ियाकसिकेकण दि कै ले. कपल पा हक कह री गे का कनेनिजल | न्नरेनीर कैरचाजर दर जप उधर गा कब योडिपधिदलकि्रेसफिकफारि उंतॉलिफाममि कि पटक पते विकेटिकनिसे तिकरिटरिसियनिलिकनिपी ..। जन्यर्ट्डलनिडदिच लिनलसिनिकिसिविदति सिथपकापप कवि कक एक दर गन है । दी सर वस्पूय नम. ।। क सिर । कि फूड मे उस सर्द शक्तिमान जणदी श्र को मगेक घरयवाद देने दें खिसकी | पगै यम पुन न्फगन दब मे छू न डा पुश काश शुन्यु भू प्र प्पि न्ग यू | ही कै ने कूपा कदाक से यह छन्द परम समक् 1पराजब्न्य इलसन हाकर | हि 3 व टि। दा रा | 12 1 नर जे पु भा उस १ सब विद्या्ों के खून वेद है दौर छन्इम्शास् वेदों के छू स गगों १ छन्द २ कप २ ज्यातफ ४ पनसक ४ एशसा धार पर. & व्याकरण में से पक झग है । कथा ं छुन्द पादोतु चेद्सण हस्तों करपो इध कथ्यते । ज्य-तिपाधसस रू निरुते. ध्ोज सुर्यते ॥ शिक्षा घाणन्सुचद्स्थ सुख. व्यकरणंसतुतभू । तस्पातू र्भंगमघीत्थय न्रह्मलाक महीयते ॥ चरणस्थानीय दोने के कारण छुम्द पद्म पूजनीय हैं जि सो तथ सा | में दिना पाँच के मदुष्य पंगु है. बसे ही क व्यरुपी सा में बिना लुनरुणास्त्र के | जान के सजुष्य पतुचत है । विना लदपणणख्र के कान के से सो राई काव्य को | यथाद गति समग्द सकता है न उसे शुद्ध रोति से रख दी सकता है । मारतजा | | में सस्दत जौर भाषा के विद्वानों में कदाचितू ही कोई पग्ना होगा .जसे काव्य | किक पाक रि । पढने का सुराग न हा परन्तु हरा सुन्दर के प्ड्े किस्म को काव्य करते | रथाए शान एव चाघ होना असंभव ऐ | इसी घ्रद्धार वहुतेनों को काव्य रख ष्क जि हि की मी रुचि रहती मे किन्तु बिना छन्एुम्यखा के जाने उन्हें भी शुद्ध घोर श्र | दब रखना दुस्तर है । |... २ छंदम्शास्त्र के कर्ता महर्षि पिंगल हैं उनका रचा हुध्मा शास्र भी | | फपिगाल के नाप से प्रसिद्ध है कोष में पिंगल शब्द का घर्थ सप मी है श्रतण्व | | सीग कह फाण घ्यहि. ध्योर सुजंगाद नामों से भी रुमरण करत हू तथा इनको | शेषजी का ध्यवतार भी मानते हैं । ३ . छदःशास्त्र का थी न होना मजुष्य के लिये परमायश्यक है । | झाप लोग देखते हैं कि हमारे. ऋषि महर्षि शोर पूजओों ने स्थति शास्त्र. | | पुरागादि जिवने म्रेथ निर्माण किये हैं वे सब पाय छन्दोबद्ध हैं बहां तक कि | भति घर्थात चेद भी छंदस कहाते हैं । छंद का इतना गोरच झौर माहात्म्य |




User Reviews

अभी इस पुस्तक का कोई भी Review उपलब्ध नहीं है | कृपया अपना Review दें |

अपना Review देने के लिए लॉग इन करें |
आप फेसबुक, गूगल प्लस अथवा ट्विटर के साथ लॉग इन कर सकते हैं | लॉग इन करने के लिए निम्न में से किसी भी आइकॉन पर क्लिक करें :