हिन्दू गौरव ज्ञान | Hindu Gorav Gaan

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Book Image : हिन्दू गौरव ज्ञान  - Hindu Gorav Gaan

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about अज्ञात - Unknown

Add Infomation AboutUnknown

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
2 ६ ८. ~ ~ ~ ~ ~ < ~ ~ ~ ~ ~ -<- ~~: €.€ €€ £ £ £ ^€ प्रथम विभाग संस्कृत प्रन्थो के वाक्य 6 হু নাল ৮০৮০১৩২৩০৯৮ इये विसृष्टियेत आ वभूव यदि বা दधे यदिवान। यो अस्याध्यक्षः परमेव्योमन्त्सो जङ्घ वेद यदिवान्‌ वेद्‌ । --आग्वेद ই গন; নিজ অথ নানা সন্ধা কী ভি प्रका- शित हुई है; ओर जो इसका धारण ओर प्रख्य करता है, जो इसका अध्यत्त है . ओर जिस व्यापक में यह सब जगत्‌ उत्पत्ति, स्थिति ओर छय को प्राप्त होता है, वही पण्मात्मा है, उसको तुम जानो , ओर दूसरे किसी को ( जड़ प्रकृति आदि को ) सशिकर्ता मत मानों। उपनिषदु भी यही कहते ই: কক (क) > >>> ~ - #न नट ধক रै कद 9




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now