भारतीय दर्शन | Bhartiya Darshan

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Book Image : भारतीय दर्शन - Bhartiya Darshan

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about उमेश मिश्र - Umesh Mishra

Add Infomation AboutUmesh Mishra

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
.,विदयसूची .... , शू७ भट्टारक, लघुसमन्त भद्र, अनन्तवीयं, नेमिचर्द सिद्धान्तचक्रवर्ती; श्रुतसागरंगणि/ घर्ममूषण, यशोविजयसूरि, १०७; तत्वों .का विचार, « १ ०७--जीवतत्वं, १०८; जीव का स्वरूप, ३०८; जीव के-' गुण, १०८; प्रतिक्षण परिंणांग, १०९; पर्याय, है १०४ अनेकान्तवाद,' ११०; जीव के झेद; .११०; “अजीव- तत्व, १११; अजीव-तरव के भेद, “१११: अजीव-तत्व के गुण; १११८ ' _-घर्मास्तिकाय, १ है ९८ अधर्मास्तिकाय: ११२; आकाशास्तिकाय, ११२; पुदूग- लास्तिकाय: है १२; दाब्द' आकार का गुण : नहीं; १९२; अस्तिकाय द्रव्यो में साधम्यं और बेधम्य, ११२; फेल: ११४, 'आख्रवतत्व, _ ११४; आख़व' का स्वरूप, ११५; आख्व के भेद, १११० बन्चतत्त्व, ११५; बर्च का स्वरूप, ११५; सबरतत्त्व,. ११६; सवर का स्वरूप, ११६: सवर के भेद, ११९३ समितियाँ, ११६: गुप्तियाँ, ११६: नल! - ११७; चर्म, 1१०: अनुप्रेक्षाएँ. ११७; परीषद्घ, ११७; परीषह के भेंद ' १८: चारित्र के; भेद, . ११८: निर्जरातत्व, ११८; निर्जेसा का अर्थ, ११८; निर्जरा की प्राप्ति: ११८ निर्जेरा के भेद, ११९; तमस्या के भेद, ११९; मोकतत्व, ,११०7 मोक्ष के ' मेद, ११९; प्रमाणविचार/ १२०: दर्शन-ज्ञान के मेंद, १२०: साकार ज्ञान के जेद, १२०; प्रमाण, १२०५ प्रमाण का लक्षण, १२१; प्रमाण के भेद, १२१; प्रत्यक्षप्रमाण, १२१; प्रत्यक्ष के भेद, १२१: मतिज्ञान, १२२: ः अवग्रह, ईहा, जवाय, घारणा, १९२ श्रुतज्ञान, १२२; मर्ति और श्रुति में भेद, १२२; पारमार्थिक प्रत्यक्ष के म्ेद, १२३; केवंलज्ञान/ विकलज्ञान, अबधि- ज्ञान, मन पर्यायज्ञान, १२३४ परोक्षजअमाण, १२४; अनुमात-अ्रमाग रे) पडचावयव परार्थानुमान, १२४: प्रतिज्ञा, हेतु, दृष्ठान्त, उपनय, रस, निगमन, १२५; दशावयव परार्थानुमान, १९%: प्रतिज्ञा, प्रतिज्ञा-विं भक्त; हेतु, हेतु-विभक्ति, विपक्ष, विपक्ष-प्रतिबेघ, दुष्टा्न्त, आद्यका, १२५५ आशंका- प्रतिबेघ, १२६: निंगमन; हेत्वाभास, १२९ पक्षाभास,, १२६. हेता- भास, असिद्ध, विरुद्ध अनैकान्तिक, १२६; दृष्टान्ताभार्सि; १२७; दूषणाभासे १२७५ दाब्द-प्रमाण, १२७: तय, १२७--ययार्थज्ञान और नय, १२७; तय के भेद, १२८; कर्मवाद, १२८५ जीव और करें का सम्पक, १२८; स्याद्वाद या अनेकान्तवाद, १२९, सत्‌ का स्वरूप; १२९; परिणामिनित्यत्ववाद; १२९; सप्तभगीनय का उदाहरण, १३०५ आलोचन, १२३९-जात्मा अवयवी है; १३२; अमेद में भेद, १३२; आचार के अव्यावहारिक नियम, १२३९: आचार-मापक तत्व; १३३ ।




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now