एक बूँद सहसा उछली | Ek Boond Sahasa Uchhli

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
श्रेणी :
Book Image : एक बूँद सहसा उछली - Ek Boond Sahasa Uchhli

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about सच्चिदानंद हीरानंद वात्स्यायन 'अज्ञेय' - Sachchidananda Vatsyayan 'Agyey'

Add Infomation AboutSachchidananda VatsyayanAgyey'

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
निवेदन श्श के रूपमें पहचाना जा सकता है तभी सम्पन्न और दरिद्र की पहुचानके आधार आधिक मूल्य न रहकर मानवीय मूल्य हो जाते हूँ--जीवनके मूल्य ही तो मानवीय मूल्य हैं । वास्तवमें जो ऐसे पाठक हैं उन्हें थह भी नहीं बताना होगा कि पुश्तक में बया नहीं है । उनकी सदाशयता--और सत्ता--स्वयं नीर-क्षीर करती चलेगी । उन्हें जो मिलेगा उतना ही केवल उनकी नहीं बल्कि मेरी थी उपलब्धि होगा । जो नहीं मिलेगा वह उसमें है ऐसा कहनेकी हठधर्मी मैं न करूँगा । बया ऐसे पाठक बहुत थोड़े हैं ? कहा जाता है कि मैं अभिजात-वर्गका हूँ ( कहनेवालोंके लिकट अभिजात का जो भी भर्थ हो ) भर इसलिए अल्पसंख्य पाठकोंके लिए ही लिखता हूँ---अभिजात पाठकोंके लिए ही । कोई वयों जान-बूझकर अपने पाठकोंकी संख्या कम करना चाहेगा यह मैं नहीं जानता । हर कोई मेरा लिखा हुआ जरूर पढ़े ही ऐसा मेरा कोई आग्रह नहीं है ऐसी कोई अवचेतन कामना भी मेरी न होगी । किस्तु हर कोई मेरा पाठक हो सकता है ऐसा मैं सानता हूँ । माननमें मेरी श्रद्धा है । मानव-मात्रकों में अभिजात मानता हूँ । मेरा परिश्रम उसके काम आते इसे मैं अपनी सफलता मानता हूँ । इस पुस्तक जो परिश्रम हुआ है जो कुछ प्रस्तुत किया गया है वह उस समृद्धिमें कुछ भी योग दे सके जिसके मानदण्ड शार्धिक नहीं हैँ तो में अपनेकों घन्य मानूँगा । योग बह दे सके या न दे सके उस परिश्रमके पीछे मेरी भावना यद्दी रही है जो कुछ मेरी ओरसे निवेदित है उसके मूलमें यहीं साध है । --सच्चिदानम्द चात्स्यायन




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now