पृथ्वीराज में प्रणाम | Prithviraj mai Pranam

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
शेयर जरूर करें
Prithviraj mai Pranam by डॉ. मनोहर शर्मा - Dr. Manohar Sharma

एक विचार :

एक विचार :

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

डॉ. मनोहर शर्मा - Dr. Manohar Sharma के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है | जानकारी जोड़ें |

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(देखने के लिए क्लिक करें | click to expand)
1११ (४) दरिद्र रो दानबे जादयो ही हो तो आया बयो हा ? जदनरेई थे आद्वो तो विदा मांगता ही आप्रो हो।माचक | मैं तो थारी दान-ब्ीरता री घणी प्रशंशा सुण रासी ही, पर भा उट्टी रीत बयों ?जे जाव्रशो ही हो तो काया बयों हा ?महारे और थारो कोई पता रो संबंध है काई? ओर जे नहीं, तो बस रहार हो बने मागण नै बयों बातों हो ?हूँ दरिद्, दरिद्र सू भी दरिद्, हूं और ये हो म्हारा सप्रेस्त। लो, देखो ! इण वार पाने ही त्याग त्याग रो थाद्श देखाऊ हूं ।जे जाद्णों हो हो तो आया बयो हमारे




User Reviews

अभी इस पुस्तक का कोई भी Review उपलब्ध नहीं है | कृपया अपना Review दें |

अपना Review देने के लिए लॉग इन करें |
आप फेसबुक, गूगल प्लस अथवा ट्विटर के साथ लॉग इन कर सकते हैं | लॉग इन करने के लिए निम्न में से किसी भी आइकॉन पर क्लिक करें :