सिलाई - कटाई - शिक्षा | Silai-katai-shiksha

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Book Image : सिलाई - कटाई - शिक्षा  - Silai-katai-shiksha

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about शुभाषिनी देवी - Shubhashini Devi

Add Infomation AboutShubhashini Devi

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
छुर्ता ( पंजाबी ) १७ ख््ज्ज्नलललिलली वन आवनीलनननननभीजलज लत नल कल नली लत नी + ५१ नम खिजनस न न> तन सन्‍+ज+ त से मोहरीका नाप ७ इ० का आधा ३३ ६० और ६ ३० अधिक सब चार इ“च दुर॒पर “उ' रक्‍्फ़ो। उसके बाद ८ और उ एक सीधी रेखा जोड करके उसके ठीक बीचसे आधा ६० दूर बाहरमे एक बिन्‍्दी रखकर ८ और “उ” ज्ञोड दो | इसी तरह चूडी दार कुर्ताका आस्तीन तैयार होगा। घूडीदारके आस्तीन मे जिस त्तरदद सीधा फीता छगाया हुआ है. ठीक उसी तरह फीता ढेकर सिछाई कर दो । ४ से म तक सिलाई करके उसे मे तक खुला रकल्ोगे। दोनों मुँह मे एके बटन छगाओ और ऊपर मे काज का घर बनाओगे। पहले चुडीदार कुत्तमि तीन बदन लगाया जाता था लेकिन आज कल दो छगाया जाता है! यदि ढीला आस्तीनका पंजाबी कुर्ता होगा तब ट से प तक सिलाई फरके त, प को मोड कर भाज करके सिलाई करना होगा | आस्तीन तैयार हो जाने पर अब कुर्त्ताके मोढाके साथ आस्तीन को सिलाई कर दो। मोढाफे अ बिखफे ऊपर आस्तीन का के बिन्‍्दू और मर विल्दूके ऊपर ठ विच्दू रखकर सिलाई कर दो। आस्तीन सिलाई कर छेने पर कुर्ताका सिलाई हो गया । कभी-कभी किसीका सीना और कमरका नाप वराभर रहता है यदि इस तरहके आदमीका कुर्ता काटना हो तो उस समय १९ और ८ रेखा सीधा काटकर १ तक नीचेंमें काट लेना। ११, ३ और रेपाकी सींचकर भीतरमें जो टेढा शेप द्सिलाई देता है, सिर्फ उसी स्थानकी ११ और ८ सीधा रेसाके ऊपरसे कादकर रखना होगा फ्योंकि इसी तरह आदमीके सीना और कमरका ठीक सीधा लाइन देखा जाता है।




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now