कैवल्य क्षमापना दिवस के अवसर पर प्रकाशित स्मारिका | Kaivalya Kshamapan Divas Ke Avasar Par Prakashika Smarika

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Kaivalya Kshamapan Divas Ke Avasar Par Prakashika Smarika by नरेन्द्र भानावत - Narendra Bhanawat

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about नरेन्द्र भानावत - Narendra Bhanawat

Add Infomation AboutNarendra Bhanawat

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
के भू मे + श्री जन श्वेताम्बर संघ, जवाहर नगर, जयपुर परम पू, ग्राचार्य श्री जिनकान्ति सूरीश्वरजी म. सा. के प्रधान शिप्य प. पूज्य गुरुदेव श्री सणिप्रभ सागरजी म. सा. के कर कमलों द्वारा माघ सुदी 14, संवत्‌ 2046, तदनुसार 8 फरवरी, 1990 को सम्पन्न हुई प्रलिष्ठा भाग्यशालियों की नामावली भणिधारी श्री जिनचर्द्र सुरोश्वरणी की प्रतिष्ठा क्री पारसचन्दजी सुरेशचन्दजी जैन, वम्बई श्री जिनदत्त सुरीजी की प्रतिष्ठा श्रीमती सोहनकंवर, श्रीमती निर्मला महता, जोधपूर भी जिन कुशल सूरोजी की प्रतिष्ठा श्री निहालचन्दजी, क्षीपालजी, प्रमोलकचन्दजी महता, जोधपुर प्री नाकोड़ा भेरवजी की पतिष्ठा भी भंवरलालजी, भीमराजजी, सोभराजजी बोहरा, वाटमेर मरिधारी श्री जिनतन्द्र स्रीश्वरजी की मृति प्रदाता की भेगमिहजी अम्णकृमा र जी चौधरी, जयपुर थी जिनदत सुरोजी की सूर्ति प्रदाता खीमसी ठीकमबाई धर्मपरनी रखे. क्री पीखीदालजी गॉविठा, जयपुर ली जिमकशल सरीजी की पृतति प्रदाता पोमती प्रेमकंसर प्ीक्ीमाल, घरपरनी रब. री हस्सीमलजी पीजीमाय, जयपुर पी ताशोशा भरबजो को मत प्रदाता का चीः क्र च् हर है चुका का कम कक कक 2 कहिताए के के... हल सिनााका हुक सा काजततफा न क. आफ #। साफ बढ >ख्कर «७1 दिुर सम लक) इजापडडशाजाणओ सन्मा |, जयव॒/




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now