आत्मानुसासना | Atmanusasana

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Atmanusasana by गुणभद्र जैन - Gunabhadra Jain

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about गुणभद्र जैन - Gunabhadra Jain

Add Infomation AboutGunabhadra Jain

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
पाता प्रवाधणा 117100 एणु/लव (०छा७ वा (8 9००६ कप 5० जि 216८६ प0फ वुब्लागड छा] 1: 11०1३ १), 4 की: १०५० की: ५०), कै:।। ०] एज]ण्ण ७ग1 899फण ( 1009 ) एन1०७ एऐ३ 5/- एच ८0997 वथ्यूटाए४[१७ ०1 79०४जटै6 रा, जैन ग्रंधमालाफा परिचय छोक्ापूर निषापी अप्नचारी शीबराच गोतमसदबी दोशी %ई बर्पॉप्ति तंतार से उद्दासीन होकर बर्मकाबेमें भपनी पृत्ति ठछगा रे पे । सन्‌ १९४ में उनकी बह प्रदछ इच्छा हो ठठी कि अफ्नी स्वासोपा्शित संपक्तिका उपमोग विशेष रूपसे भर्म भोर रमाबक्ौ उत्नतिके कार्यमें करें | तदसुतार उन्होंने शमस्व देशका परिभ्रमण कर छेन विद्वानोंसे साथात्‌ झोर डिक्षिय शम्मतियां इस बातक़ी संप्रह ढीं ढ़ि बोनसे कार्पमें संपश्िका उपगोग किप्रा बाद | स्फुट मत्तंच्रष कर केमेके पश्मात्‌ तल्‌ १९४९१ के प्रीष्म काछ्में अह्तचारौ बीमे तीर्थक्षेत्र गढपंपा ( नासिक ) के छीतरू बाठावरघमम बिह्ानोंद्री उमाव पक की ओर रूशापोह्पूर्कक निर्भदके किए उक्त बिपस प्रस्तुत क्रिपा | विश्वत्शम्मेडनके फडस्वकूप अश्मचारीड्धीने बेन सस्कृति तथा साहित्पके समस्त अंगेऊे तंरछत्र उद्धार भोर प्रचारके देतुसे सेन सस्कृति तरएक तब ' की रपापना की लोर उतके डिए. ३ ठीक इबारके दानकी बोफ्या कर डदी। उनकी परिप्रइनिषृत्ति बढती गईं, भोर न १९४४ में उप्दोंने छममय २ दो छाक्षद्री अपनी संपूर्ण तंपत्ति ठंबको टूरट क्‍ससे अर्पण कर दी | इत धरइ भापने अपने सबंस्थका स्वाय कर दि, १६ १५७ को अस्वस्त साबपानी झोर रूमाबानसे समादिमरणक्री सारापना है इली संघड्े ध्फकेत बीबराज ऐ॥ैन प्रंपमाका ? का सचायन हो रद है) प्रस्तुत प्रप इलौ प्रंबमालाका ग्याराां पृष्ठ है। -




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now