मनु स्क्रिप्ट्स | Manuscripts

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Twelfth Report On The Search Of Hindi Manuscripts For The Years 1923, 1924 And 1925 Vol.2 by हीरालाल - Heralal

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about हीरालाल - Heralal

Add Infomation AboutHeralal

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
- 4??#प्छाज 11. 999 बेन | बाल रवि भक्षण, इन्द्र का वच्ध मारना, रुद्र केप हेतना व देवें का शांत करना, हनुमत के वर देना। बाल समय-में घ्रुव आदि के जाना, आकाश में उछलना।, ऋषिये का उपद्रव देख बल भूलने का शाप देना व राम क्र मिलने पर शाप माचन हे।ना, विद्या पठन व वालि सुभ्रोव से मिलना व राम के। सहायता देना । वेश्यनाथावतार-महानंदा वैश्या का वणेन, शिव भक्त हेगना) वैज्यनाथ महादेव का अवतार हेाना । महानंदा वेश्यनाथ संवाद वणेत, रल कंकण के लेने को इच्छा करने पर वेश्य 1थ का देना झेर शिव लिंग देना। कक ट का अश्ि में भस्म हेना जिस पर बेश्या का अपार प्रेम था, वेश्यनाथ-बश्या विद्यार -बणेन व अन्तथान हेना । बेह्या के शिव पुर देना । द्वित्रनाथावतार वणेन--छुप्रताप राजा का वणेन; ऋषभ प्रसाद पाना, उसको चनद्रागद्‌ रानां से कोतिमालो कन्या को उत्पत्ति, भद्गायुष से विवाद होना । शिव-शिवा का द्विज रूप में उसके पास जाना ओर बाघ से रक्षा करने के कद्दना, राजा का वाण चलाना पंर कुछ ग्रसर न देाना। द्विज को स्री के खा जाना । द्विज का राजा पर क्राध करना; राजा का दुखित हेशना | वाह्मण से जा चाहे सागने के। क हना, उसका स्त्री मांगना, राजा का देना, शिव का प्रगट हाना। भद्वायुष के वर देना । पाषेद बनाना । पतिनाथ ग्रवतार वणेन--आहुक-आहुको मिल्क मिललनि वणेन | भिवल के ज्ञाने पर शिव का पति रूप में भिल्लन के पास जाना। वहां ठहरना | घर छेटा हेने पर भिल्ल का बाहर रहना भ्रार दिसक जंतु द्वारा मारा जाना। मिल्लनि का सतो देने के लिये चिता रचना; उसका शोतल होना, शिव का प्रगट हेाना; ओर वर देना व निज हंस रूप से नल दम्यन्तो का संयेशग कराने को प्रतिज्ञा करना ज्ेकि मिल्‍ल के अवतार थे । कृष्ण दर्शन अवतार वणेन--नभग का ग़ुरुकुल पढ़ना ओर भाइये का दाय भाग न देना | ज्ञात करने पर पिता के देने का उदलेख करना । पता मनु के पास नभग का जाना, पिता का शिव आराधना करने के। कहना । आंगिरस के यज्ञ में जाना व दे खूक्त कम कथन करना, यज्ञ का पूर्ण हाना ओर बहुत धन देना और शिव का कृष्ण दशंन नाम से उसके पास परोक्षाथे आना । शिव का उस दृव्य के। अपना बतलाना । देनें का विवाद देना आर उसके पिता मनु के पंच बनाना । मनु का शिव का माल बतलाना ओर उनको बिनतो क«ने के कहना । न«ग का प्राथेना कर्ना ओर शिव का उसे राजा बनाना व धन देना | मिक्षनाथ अवतार वेन--पक विदभ देश में ससरथ राजा का होना । शाब्ब राजाओं का उसे रोकना | झुद्ध देना व हारना, उसको गर्भवतों सत्री का




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now