तैत्तिरीयो पनिषाद | Taittiriyopnishad

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Taittiriyopnishad by श्री शंकराचार्य - Shri Shankaracharya

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about श्री शंकराचार्य - Shri Shankaracharya

Add Infomation AboutShri Shankaracharya

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
(४) निःश्रेयसकी प्राप्तिका एकमात्र हेतु ज्ञान ही है। इसके डिये कोई अन्य साधन नहीं दै | मीमांसकोंके मतमें '“खर्ग! शब्दबाच्य निरतिशय प्रीति ( प्रेय ) ही मोक्ष है ओर उसकी प्राप्तिका साधन कर्म है | इस मतका भाचारयने बनेकों युक्तियोंसे खण्डन किया है ओर खर्ग तथा कम दोनोंह्वीकी अनित्यता पिद्ध की है। इस प्रकार आरम्म करके फिर इस वल्लोमें बतछायी हुई भिन्न- भिन्‍न उपासनादिकी संक्षिप्त व्याख्या करते हुए इसके ठपसंहारमें भी भगवान्‌ भाष्यकारने कुछ विशद विचार किया है | एकादश अनुवाकमें शिष्पको वेदका खाध्याय करानेके अनन्तर आचार्य सत्यमाषण एवं धर्माचरणादिका उपदेश करता है तथा समावर्तन संस्कारके बिये भादेश देते हुए उसे गृहस्थोचित कर्मोकी भी शिक्षा देता दै | वहाँ यह बतलाया गया दै कि देवकम, पितकर्म तथा अतिथिपूजनमें कभी प्रमाद न द्वोना चाहिये, दान और खाध्याय- में भी कभी भूछठ न होनी चाहिये, सदाचारकी रक्षाके छिये गुरुजनों- के प्रति श्रद्धा रखते हुए ढन्‍्द्दीके भाचरणोंका अनुकरण करना चाहिये--किंतु वह अनुकरण केबछ उनके सुझतोंका हो, दुष्क्र्तोका नहीं । इस प्रकार समस्त वर्लीमे ठपासना एवं गृहस्थजनोचित संदाचारका ही निरूपण होनेके कारण किसीको यह आशंका न हो जाय कि ये द्वी मोक्षके प्रधान साधन हैं इसलिये आचार्य फिर मीक्षके साक्षात्‌ु साधनका निर्णय करनेके डिये पाँच विकल्प करते हैं--( १) क्या परम श्रेयकी प्राप्ति केवढ कर्मसे हो सकती है ? (२) अथवा विद्याकी अपेक्षायुक्त कमंसे, (३) किवा कर्म और ज्ञानके समुच्यसे, ( ४ ) या करमकी अपेक्षाबाले ज्ञानसे, (७५) अथवा केवल ज्ञानसे १ इनमेंसे अन्य सब पक्षेको सदोष छिद्ध करते हुए आचायने यही निश्चय किया है कि केवल ज्ञान ही मोक्षका साक्षात्‌ साधन है । इस प्रकार शीक्षावल्डीमें संहितादिविषयक उपासनाओंका निरूपण कर, फिर त्रह्मानन्दवल्लीमें अह्मविधाका वर्णन किया गया है । इसका




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now