अल्प पद्धति | Alap Paddhati

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Alap Paddhati by श्री सर्वदेव सूरी - Shri Sarvdev Suri

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about श्री सर्वदेव सूरी - Shri Sarvdev Suri

Add Infomation AboutShri Sarvdev Suri

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
इज्रेए आर ०>२९५१६१ जैज ब्ण०3 ०० >ममेरग 9 ०॥०आऋण्ड-० न) ०म० भा ० 7०2 836 ० 6 ०3६०-०१ 02४0० ० रे 9 श्र पट०४6 १न३॥० भटक बे बी 0,०७६ ग्मिटब्किन गिजा० 4० 2०2०, ४५१०::८० ८२० जि गजपु: गरम १ फूट १4४८० वे, वस्तुत्त, | 1 ? प्तुत, बवब्यत्व, हे ए क रह ि | ि ्ि 6८ ली फ्र पं (हि £ गए न 4 9 हनन रा ि फ्रि्टि कि ि ५० (० 4४ (८ 141 ज. अं डा मा - तो जहा हि बा ्रि प् प्र (ह्ए् हि गुण । शो गुणा भवन्ति गाते है । नहीं पाये मृतंत्व॑ च गुण नहों पाये 1! गुणाकी छोड आठ गुण पाये जाते च्‌ नास्ति । गुण नहीं पाये इन दो गुणों ये आठ गु नत्व॑ मृत॑त्व॑ पे पूर्वोक्त एफेकद्रव्ये अशो अटों [ १५ | ले सामान्य सर्वेपां कथनका खुलासा । बे ् जे ु द्रव्यम पाये व्‌्मूत २३1२ प्र जानेवा रु टग प्रकारके सामान्यशुणोमेंसे आठ आठ सामा| ञअञ चचे 1 (0 ् मृतत्व ये तत्व ड्‌नु ओर अमूर्तत्व ये उ हे कक रु छ यद्‌ और जे कप थे है] -्ऊ एक णक ब्रब्यमें आठ आठ सामान्यगुण होते द्रव्यम जो और अचेतनत्व न कप जिस की ३ अचतनत्व सामान्यगणोंमेसे विठ्रव्यम » पेतनल पुद्ठलद्रच्ये प्रत्येक अत्यक दर ठ्यम त्व व्यमे पुट्ुलद्रव्यम रुलघुत्व, शी 6 चसा कः 2 भावार्थ- ज अर्थ-- (े अथे-- प्रमेयत्व, अगुरुलघुत्व, प्रदेशव बा ना कक पुद्ुुल रे भावाथें-- य॒त्व, अम्ु 45.4. 20.5 २ >अभ्म ााष-आ ).स नह जा दर के (नानक घ राज ेलकआह पं “ब डा 20020 21222: 22972: 57 न यम रे 8 यम व 2 कि अत मनी ज्क न ०ब्जुसट गुट गन निन छठ




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now