प्रशमरतिप्रकरण | Prashamaratiprakaran

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Prashamaratiprakaran by श्री हरि राय - Shree Hari Rai

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about श्री हरि राय - Shree Hari Rai

Add Infomation AboutShree Hari Rai

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
रापक्षत्रजैनशाअमास्य [ किदष-दुची प॒ घृर्ठाऋ | पिफय चूष्ठाऋ प-फ्भावढ़ी पुर्मद्य ४५ | देश कुछ, शरीर, डान, लागु कल, मौग विद !'.. # भौ रनिण गई है, हिए क्या है! ४९ शा पेलान संग को | 1 छठ पा भौ पुर्योका बिगन दी प्रथम २५ अलवर करे डे दि तम लारंम गुरफे लाबौग हैं दे अपना श्ुम परिणार्मोद्रे रिबश्िकरे छिए शयह्वेपष्य ख्वाम दित चाएता है रप्े पुरुदी केदार्म तप ओर इम्ियोंक्ो धराम्त फ्रस्मेडा हपत्न कमना दमा भाईए ९ चाहिए. घर पेश देते हों तो मकतेक्रे पृष्ददाम्‌ शमशे ७-सहम प्पिक्यर-अआधार-कारिका १ १-१४५ कि गुरुका सुश् इतना लघ॒ुर है ४९ | ढिपय अगिड़ क्यों है! ३ प्र डपदेशडै हगण शिम्दोड् छफ्ऋर करौ- शाक़े आचार्यका क्षिप्दक्ो रा प्रस्युफ्कार करना बाैए ! घ दिपव-सोजपे मगुष्यको बोड़ा गहुत कुल होगा दे। आता दिषद सपा हैं, इतधा उत्तर और बृत्तरा रद्ाएत्व १ रासे बिजगढ़ा मोक्ष है ५१ | इहास्प्रमक्से मबस्मैश मध्यवभोझ्रे कार्य सप्ी मजुप्योको क्या कछ भोगक पद है।. ३ | अ्तुशौर्ण कर उत्तक्ी रक्षा कप्ना चाहिए. प्‌ कैफाफ्ा खुख्तता ४१ | आधरके भेदोह रक्त बंधन ६ बात शरमर्भनम दशाम्त ५५ | भ्राप'एंबके प्रथम अताम्$पी अध्ययन हैं प्ठ सधिक्रार--आउमइ- क्ािझ ८०-१३ १ उनके क्राषारप्त आ्ाचारक ९ नेदोंअ तड़ो दाईम्कये बमना हि ईंकित बर्षन न स्प्मभ कऐे चर हों जाते दर्मदा मरी... | दियीप शक कापफी पष्य पूकिकारे मिक्स. पे स्वर दर क दितौब मर ला, हि चर दाषुष्र मन भाचारत रम जाता है. 20 शाजु करी अ |. इमो मो दाकड़ो बाकक गाते इल्र गह ऐसे ८९ $ मदचये ३ | किफ्प-हुलडौ अमिकता करा व्यय है <३्‌ फ्रिमदको कर. # ६१ | ८-भष््म गधिक्यर--मावत्रा- रिष्म १४९-६६९ जे मद ६९ | प्रशम-छषत्र प्शिक्र उपाय डी ऐड़ो सब दोमे श्र मह न कक चाहिए. ६१ , रूपजी इहक्पोय अनिद्ठ बोगसे दु।छ दल है अ मद न काजा बाहिए ६४ | बौठुठगौड़ों बद हुःल बता सौ गई ८५ बंद कसौदालके त्दूशपज सुलिद्मी कषा प्ेन्कलमे. ९६ | विपन-सुख्से पशमजातव तुरूदरी झाकुबता ४९ हिप्इसे कष्मतत दुआ मनु इलडोकर्ते प्र्ठम-झुस्त्पपर फुन: कुछाला <्ट पिधाचकी उस दुल्कौ दोता है। ६७ | छोकद्दौ चिल्ठा फ्लेड़ुकर राहु कप मरण-फैपण (कणायी मी दुऔौ होता है बट डैसे कप ! इस ईप्पषा इमादाज <ट निम्दा कगों प्रोफ़का आहिए! ६८ | छोक-बार्दा स्खलेगे बूछ्ाा गरतण <ष्‌ तदढके कपत्थ दो बैच दपेण जार॑ियोसे जत्म #.. » अक्‍्पाणअऋरीपन् श ता है ६९ दोद जोर एचडी हिला छोफे ही हेनी किए. ९९




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now