श्रीमद्वाल्मीकिय रामायण [किष्किन्धाकाण्ड] | Shrimadwalmikiya Ramayan [Kiskindhakand]

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Book Image : श्रीमद्वाल्मीकिय रामायण [किष्किन्धाकाण्ड] - Shrimadwalmikiya Ramayan [Kiskindhakand]

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about चन्द्रशेखर शास्त्री - Chandrashekhar Shastri

Add Infomation AboutChandrashekhar Shastri

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
1$* सोलह एजेण्ट मुकुम्ददास गृप्त एण्ड कम्पनी पुस्तक-भवत, बनारस सिटी । +>ण्कान-नरे++--ुीच >(ि-.+ु+सातन- ५ आप स्वयं स्थायी भाहक वचिए अपने मित्रोकों भी ग्राहक वनाइः क्र > | ) [५ हर 1 ह | सस्ता गाहित्य-पृरतकमाला * || 1६ | है सस्ती पुस्तकों द्वारा सवंसाधारणकों लाभ तभी पहुँच सकता है जब कि पुस्तकोंके | ४ विषय बढ़िया और दाम बहुत माकूछ हो । हमने ऐसे कई प्रवत्त करने- ' |; | वालोको देखा, पर हमें ऐसी पुस्तकमाला 'हिन्दी-संसारमें दिखायी न दी। एकाच ६ प्र 1] ५ जगहसे ऐसी कोशिश हो रही है, पर || 10 6 के धर हम दावेके साथ ४ बौर साथ ही उनका दाम भी मिलाइए तो _ आप देखेंगे कि * ४ इनले बढ़िया, इनसे सल्वी और अधिक शिक्षाप्रद्‌ पुस्तक बहुत ही कम हैं पर कमी है ४! स्थायी ग्राहकोंकी,. * | पर्याप्त ग्राहक मिलते ही, हम इतने ही नहीं ॥ १००० पूष्ठ १) रू० | 1 देनेकी व्यवस्था कर सकते हैं । . ' कह सकते हैं कि भाप हमारो पुस्तक्ोंकी लीजिए, उनकी दी्कायाकों देखिए रद ॥ छ 0७+ जे. ९०४६०(८/०क 61 अध0 +ध5 5 बे 3%*६(«४९- ८ 2५20... 0०-०० “०६०१० ६0 ॥ ०१९ पर >पक-य::२1::“ ५७-६८ 7: कात्पएू- ०-० नादपयोला 2 पापाननम्ात्पन्‍ा पवन. ४ 200%%5००२०/ प्रकाशक-+- तर सुद्गक- ह; पन्नाढाल मुप्ठ, व्यवस्थापक, शी गणपति कृष्ण गुजर स० खा० पुस्वकमाला कार्योहूय थे भीलक्ष्मीनारायण प्रेस, जतनवर, बनारस सिटी । 2 बनारस सिटी । चाधकाजटादातातकतकातामतााककाताटपकर: ढपरकाएवरपपमकादा7ध्रारा:+-व्पपदनाक पद वरवानधदा पाल ४२ परजाक १:40 +7-7: ०८ ८०::चह०-प-रताभपशाक भामनालदाभाकाहाावाधा2 कर । त्तोद--अपता आहक नंबर यहाँ नोट कर लीजिए । पत्रव्यवहारमें उसका हचाला ! अवपबदय दीनिए 1 आहक संख्या शा ३७8 ४79 | जल न रै- राणा दलमा्काल4॥००७००म ० बी




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now