दादा गुरु भजनावली | Dada Guru Bhajanavali

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
शेयर जरूर करें
Dada Guru Bhajanavali by महोपाध्याय विनय सागर - Mahopadhyaya Vinay Sagar
लेखक :
पुस्तक का साइज़ :
21 MB
कुल पृष्ठ :
626
श्रेणी :
हमें इस पुस्तक की श्रेणी ज्ञात नहीं है |आप कमेन्ट में श्रेणी सुझा सकते हैं |

यदि इस पुस्तक की जानकारी में कोई त्रुटी है या फिर आपको इस पुस्तक से सम्बंधित कोई भी सुझाव अथवा शिकायत है तो उसे यहाँ दर्ज कर सकते हैं |

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

महोपाध्याय विनय सागर - Mahopadhyaya Vinay Sagar के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है | जानकारी जोड़ें |

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(देखने के लिए क्लिक करें | click to expand)
& 48 ह& छ& £# & 8 £ 8 ४७0. 6 0० प् पा ध्ज 0 (1 क 4 के + न रे न 4 ७ (७3उदयपरत्न कनऊदकीर्ति घ॒माकल्पाय पएमाकल्याण पैमतागर खुघालचंद सखुवालचंद गुलाब गुलाब गोपालजिनफवीन्द्रसागरसूरिजिनकर्वीद्रतागरसूरि जिनकर्वीद्रतागरसूरि जिनकर्वीद्रतागरसूरि जिनकर्वीद्रतागरसूरि जिनकर्वीद्रतागरसूरि जिनकर्वीद्रतागरसूरि जिनकर्वीद्रसागरसूरि जिनकर्वीद्रसागरसूरि जिनकान्तिसागरसूरि जिनकृपाचंद्रसूरि जिनचन्द्रतूरि जिनमहेन्द्रसूरि जिनरगसूरि जिनप्तीभाग्यसूरि जिनसौभाग्यसूरि जिनहरिसागरसूरि जिनहरिसागरसूरि जिनहरिसागरसूरि जिनहरिसागरतसूरि जिनहरिसागरसूरि जिन्डरिसागरसूरि जिनहर्षजिनहर्षतूरिजिनहर्षसूरि जिनहर्षतूरि जिन्हर्भतूरि जिनाक्ददायरस्रि जिनाक्दस्ागर सरगुणियण जिनदत्तसूरि संदगुरुजी ये सॉमलो राज श्री जिनदत्तसूरि सदुगुरु का ध्यान श्रीजिनदत्त के चरणों अम्ठ घर रंगसदृगुर सेवा भाव जिनदत्त का धान श्री वीर के महाधीर धीरे धीरे गारे गुरु आओ मनायें आज आज मनावो शुद्ध उनका जीनागुरु की जय जय गुर जिनदत्त की चालो पुष्य प्रतापी दयामय मेहुल्ला आजे यह आज जयति है है युगप्रधान पधारो पूछे सोमचदसदगुरु न्यारा रेश्री खरतरगच्छ पिर0 जय बोलो सदुगुर अरज सुणउपूजो भजोरे भई संदगुरु के चरण अति पुण्य नाम दातार मेरे प्यारपरम गुढ़ ठेदा पई श्री जिनदत्ल सफदर श्री दाद्य रह दाथी सदूरात सुलगे डाक रद पथ फहरड अर्ड झट जोड़ ने की 1 सिदटलव मर के फिल्डट्य ८न्दा के मद पुरम्प्र छाड दी दर्दनप्र्ट्द “तु ८८22 स्व स््ट्वत्त्रके ७ ७ ७ ४७ ७ ९ ७ -1 ० ७ -| -३किक,14 है ' ९ | प5८ ६) ६४ (४ ५३45 45 46 47 48 48 49 50 51 51 52 53 54 55 56 56 58 58 59 60 61रशछ* १ ण हे है क




User Reviews

अभी इस पुस्तक का कोई भी Review उपलब्ध नहीं है | कृपया अपना Review दें |

अपना Review देने के लिए लॉग इन करें |
आप फेसबुक, गूगल प्लस अथवा ट्विटर के साथ लॉग इन कर सकते हैं | लॉग इन करने के लिए निम्न में से किसी भी आइकॉन पर क्लिक करें :