दादा गुरु भजनावली | Dada Guru Bhajanavali

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Book Image : दादा गुरु भजनावली  - Dada Guru Bhajanavali

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about महोपाध्याय विनय सागर - Mahopadhyaya Vinay Sagar

Add Infomation AboutMahopadhyaya Vinay Sagar

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
& 48 ह& छ& £# & 8 £ 8 ४ ७0. 6 0० प् पा ध्ज 0 (1 क 4 के + न रे न 4 ७ (७3 उदयपरत्न कनऊदकीर्ति घ॒माकल्पाय पएमाकल्याण पैमतागर खुघालचंद सखुवालचंद गुलाब गुलाब गोपाल जिनफवीन्द्रसागरसूरि जिनकर्वीद्रतागरसूरि जिनकर्वीद्रतागरसूरि जिनकर्वीद्रतागरसूरि जिनकर्वीद्रतागरसूरि जिनकर्वीद्रतागरसूरि जिनकर्वीद्रतागरसूरि जिनकर्वीद्रसागरसूरि जिनकर्वीद्रसागरसूरि जिनकान्तिसागरसूरि जिनकृपाचंद्रसूरि जिनचन्द्रतूरि जिनमहेन्द्रसूरि जिनरगसूरि जिनप्तीभाग्यसूरि जिनसौभाग्यसूरि जिनहरिसागरसूरि जिनहरिसागरसूरि जिनहरिसागरसूरि जिनहरिसागरतसूरि जिनहरिसागरसूरि जिन्डरिसागरसूरि जिनहर्ष जिनहर्षतूरि जिनहर्षसूरि जिनहर्षतूरि जिन्हर्भतूरि जिनाक्ददायरस्रि जिनाक्दस्ागर सर गुणियण जिनदत्तसूरि संदगुरुजी ये सॉमलो राज श्री जिनदत्तसूरि सदुगुरु का ध्यान श्रीजिनदत्त के चरणों अम्ठ घर रंग सदृगुर सेवा भाव जिनदत्त का धान श्री वीर के महाधीर धीरे धीरे गारे गुरु आओ मनायें आज आज मनावो शुद्ध उनका जीना गुरु की जय जय गुर जिनदत्त की चालो पुष्य प्रतापी दयामय मेहुल्ला आजे यह आज जयति है है युगप्रधान पधारो पूछे सोमचद सदगुरु न्यारा रे श्री खरतरगच्छ पिर0 जय बोलो सदुगुर अरज सुणउ पूजो भजोरे भई संदगुरु के चरण अति पुण्य नाम दातार मेरे प्यार परम गुढ़ ठेदा पई श्री जिनदत्ल सफदर श्री दाद्य रह दा थी सदूरात सुल गे डाक रद पथ फहरड अर्ड झट जोड़ ने की 1 सिदटलव मर के फिल्डट्य ८न्दा के मद पुरम्प्र छाड दी दर्दन प्र्ट्द “तु ८८22 स्व स््ट्वत्त्र के ७ ७ ७ ४७ ७ ९ ७ -1 ० ७ -| -३ किक, 14 है ' ९ | प5८ ६) ६४ (४ ५ ३ 45 45 46 47 48 48 49 50 51 51 52 53 54 55 56 56 58 58 59 60 61 रशछ * १ ण हे है क




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now