गुजरती मातृभाषा होते हुए भी केवल आयुर्वेद | Gujarati Matribhasha Hote Hue Bhi Keval Aayurved

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Gujarati Matribhasha Hote Hue Bhi Keval Aayurved by यदुनन्दन उपाध्याय - Yadunandan Upadhyay

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about यदुनन्दन उपाध्याय - Yadunandan Upadhyay

Add Infomation AboutYadunandan Upadhyay

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
हितीय पंकरण की भूमिका शत 1सब हे प्र पस्करश दी. धारी प्रवियां शी शीश! ते तमाए ही जायेगों रेसीं ॥रा॥। | थीं। प्रयण सत्ता स्वाद न्याय से जवर्तीबग बरके हीं प्रदाशित ढ₹ दिया गया था। सग्रयाओव से 0%पशीहन बाय थी मं [रुप से ? क्षर शक था जद! प्रयेग संध्वश्रा में बने शाट्योँ रह गंदा थी। ॥यादिव हो के गाते उन पी ज्यों के आ्तरवापित्व से मे मुक्त गही है उक्षया था भेद उसके प्रयाथित-२4र१ शिव पखररा में कलढ़ की (व संशोक्षाग करना मेरे 1हिए आावशवक् $त्र। एम पर दी बारी प्रवयों शते बल का में समाए हो गयी यह आगे के ॥ति पक आयुर्वि्सधी के हिन्दी जतुवाद़ के पते बढ़ती हुई पनेशमि का धरीवेक़ है। किलु प्राभारिक रवें ढपयुे अनुवाद की हीं प्रश्ादित करना प्रदश्ों का कर्ेभ्य है जहा जायिद शत होते हुए मी पछ्क्ष क्षा पूरी _शोमन हुए किया एस लिये संस्करण प्रवाशिते ढेलणा. पोकग्या सह सीरीज! पत्ती विधमाग्य पंश्या क्र हिए पका मे था। झर विगितार-पंक! और मोिष्यए। होगे ते मुत्त पंशोकष दा के लिए. ४४१ गही मिक्षवा था, 0३९ तशोकि ६४र वी १तरीतर भाग बढ़ीं था रहीं थी जठ! तंशीकत के शाप 4कनतेते पढ़ाटिप्पणियों जाए डर १६ संशोक्ि रगें परियदित संहकरा। १6ढों के समक्ष उपस्यित दिया थी रह है। किखु 58 )ियों बेब थी ने हे गयी होंगी रेखा बहनों संजय गहीं है अत 4िह7 वेध]ूर्द याद नदी बीर शीत १९7 थी जग परेकररा में ३7 वो जगशव चुधारा धादगा, कप ढुदठ अप्राति_ बोर संदेश जीष॑वियों के प्रोढित वां दीं ओर ध्यान देने जोर जर्णभीन पिक्ित्साकितान के साय तुठनादगक विवैधेग ढरने का प्रयात मी बिया जाकगों। नोगशजमों, २०१६ | | डे एप्याय इतीह्चि कि पिधालय वद्य यदुनन्दन उपाध्याय




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now