रेत और रेखा | Ret Aur Rekha

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Book Image : रेत और रेखा  - Ret Aur Rekha

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about रामानन्द - Ramanand

Add Infomation AboutRamanand

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
न सॉगो वरदान इन प्रतिमाओ से, वन्धु, तुम न मागो वरदान, देवी और देवताओं को तुम रहने दो रूठे, मुख फेरे , फेर लो तुम मुख इन जड प्रतिमाओं से, न माँगो मुस्कान ११




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now