कुमुदिनी | Kumudini

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
शेयर जरूर करें
Kumudini by रवीन्द्रनाथ ठाकुर - Ravindranath Thakur

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

रवीन्द्रनाथ ठाकुर - Ravindranath Thakur के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है | जानकारी जोड़ें |

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(देखने के लिए क्लिक करें | click to expand)
छुमुढिनी र७“सुधर स्थामफी मधुर बॉँसुरी छीन कष्ट घरि देहु। के छांडो हो ही बृन्दावन अनत वसेरो छेंहु। * राबू, ब्रान्डी ले आ।”? मु कुमुदिती पिताके मुँहड्ी ओर झुक़क़र बोली--“बाबूजी,, यह क्या कह रहे हो ९”? मुऊुन्दलालने भाँसे सोलकर देसा , ऐसते ही दाँतो तले जीभ 'दबाऊर रह गये । हालाँ कि घुद्धिने मिछकुछ जवाब दे दिया था, लेकिन फिर भी यह वात वे न भूले कि कुमुदिनीफे सामने शराब नहीं चछ सकती। जरा ठहरकर फिर गाना शुरू जिया। “बृल्दावनमे कोन निठुर है, मुरठी रहो बजाय ९ कहा करूँ में हाय सी री, धरमे रक्मो न जाय ९ इन विखरे हुए गानोके दुकडोको सुनकर कुमुदकी छाती फटती है,--मापर गुस्सा आता है, पिताके पैंगेंफ़े नीचे सिर रखकर मानो माफी ओरसे बह माफी माँगना चाहती है ॥ मुडुन्दुलाल सहसा वोछ उठे--“दीवानजी ।” + बगलामें है --“कार वॉशी ओइ वाजे इन्दाबोने २ सोई लो, सोई घेरे आमि रह्यो कैमोने ?”?बगलानें हे --“श्यामेर वाशी काड़ते दबे नोइ्ते आमार ए इन्दाबग छाड़ते हाँवे।!!




User Reviews

अभी इस पुस्तक का कोई भी Review उपलब्ध नहीं है | कृपया अपना Review दें |

अपना Review देने के लिए लॉग इन करें |
आप फेसबुक, गूगल प्लस अथवा ट्विटर के साथ लॉग इन कर सकते हैं | लॉग इन करने के लिए निम्न में से किसी भी आइकॉन पर क्लिक करें :