कुमुदिनी | Kumudini

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Book Image : कुमुदिनी - Kumudini

एक विचार :

एक विचार :

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about रवीन्द्रनाथ टैगोर - Ravindranath Tagore

Add Infomation AboutRAVINDRANATH TAGORE

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
छुमुढिनी र७ “सुधर स्थामफी मधुर बॉँसुरी छीन कष्ट घरि देहु। के छांडो हो ही बृन्दावन अनत वसेरो छेंहु। * राबू, ब्रान्डी ले आ।”? मु कुमुदिती पिताके मुँहड्ी ओर झुक़क़र बोली--“बाबूजी,, यह क्या कह रहे हो ९”? मुऊुन्दलालने भाँसे सोलकर देसा , ऐसते ही दाँतो तले जीभ 'दबाऊर रह गये । हालाँ कि घुद्धिने मिछकुछ जवाब दे दिया था, लेकिन फिर भी यह वात वे न भूले कि कुमुदिनीफे सामने शराब नहीं चछ सकती। जरा ठहरकर फिर गाना शुरू जिया। “बृल्दावनमे कोन निठुर है, मुरठी रहो बजाय ९ कहा करूँ में हाय सी री, धरमे रक्मो न जाय ९ इन विखरे हुए गानोके दुकडोको सुनकर कुमुदकी छाती फटती है,--मापर गुस्सा आता है, पिताके पैंगेंफ़े नीचे सिर रखकर मानो माफी ओरसे बह माफी माँगना चाहती है ॥ मुडुन्दुलाल सहसा वोछ उठे--“दीवानजी ।” + बगलामें है --“कार वॉशी ओइ वाजे इन्दाबोने २ सोई लो, सोई घेरे आमि रह्यो कैमोने ?”? बगलानें हे --“श्यामेर वाशी काड़ते दबे नोइ्ते आमार ए इन्दाबग छाड़ते हाँवे।!!




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now