भक्ति चिंतामणि | Ratnakar Tatha Bhakti Chintamani

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
शेयर जरूर करें
Ratnakar Tatha Bhakti Chintamani by खेमराज श्री कृष्णदास - Khemraj Shri Krishnadas
लेखक :
पुस्तक का साइज़ :
20 MB
कुल पृष्ठ :
740
श्रेणी :
हमें इस पुस्तक की श्रेणी ज्ञात नहीं है |आप कमेन्ट में श्रेणी सुझा सकते हैं |

यदि इस पुस्तक की जानकारी में कोई त्रुटी है या फिर आपको इस पुस्तक से सम्बंधित कोई भी सुझाव अथवा शिकायत है तो उसे यहाँ दर्ज कर सकते हैं |

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

खेमराज श्री कृष्णदास - Khemraj Shri Krishnadas के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है | जानकारी जोड़ें |

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(देखने के लिए क्लिक करें | click to expand)
+ ँ 1 प्र ल्ज्ासहबछा००७००७००७००७:०2०७:४०७:० अमल मल : भूमिका। 1. _- ०३३७खछोक-नाईं वछ्ामि वैकूंठे योगिनां तूदये न च। सद्भक्ता यत्र गायंति तब तिछामि नारद ॥ प्रद्ठ हो कि, जब साक्षात्‌ श्रीमगवंद, सहाराजने श्रीगीताजीमें ऊपनी ऋआपिमझ छुएवय हेतु भक्तिकोही बर्णन किया है छौर फिर छुपाटशिसे उसके सखाथनमी श्रीमद्धागवर्तमें प्रत्येक युगके लिये इस भौतिस विधान कर दिये हूँ कि, सतयुगममें ध्यान, भेतामें यज्ञ, द्वापरमें पूज्य ओर ' ऋलियुगर्म तो अर्ततनद्दी सार द तो फिर परमपादव शीर अतिमुकम केवक मगवहुभाइुआददी 1 सक्तजवोका जीवन घन टठहरा क्योंकि:- खोरठा-इरिपद भ्रीवि न दोय, बिन दरिगिण: गाये सुने । ' भवते छुटत न कोय, बिनाप्रीति दरिपद्‌ भये॥... ७, पसकिये मेंन मुरदास भादि भट्छाप तथा ठुझ्योदात, कवौरदास, नामदेव, गए नानश णादि न शाबीन तथा नवीन भक्तेके कयन किय्रेहुए भगवर्ारित्रोंकों जो ्मीतक छपकर विशेष विरसुयात . है न होने से भक्तजगोंको दुरूभ ये जे तहां से संग्रह ८र तथा फुछ छपेहुए पद भी झुनझर को , ८ उसेके साथ मिल थे आनंद इद्धिझा हेतु दानेसे उनके बीचमें सडित करादेये दें और थबफ कै जाठवेबार छत्वत विस्तारपूवेक पद बढा दिये ६ अपीव दोदजार परदोंके लग भय छीडाकमसे अधित दिये गये है थीर यों ता जहां बडे बंडे ब्र्मादिक देवताओंने झाजतक प्रभुओ पिचित्र की उीगाओंका पाराबार नहीं पाया अपनी मति अनुसार खबनेद्दी वन्न किया है तो फिर यह भंदमति ७1 फ्िस मिनतीर्मे है “य्यद्धि माझ्त गिरि मेरे उडादीं । छद्े तूछ केद्दि छेखे माददी”? इसलिये संपूर्ण री सम्बनोसे श्तरि विनयपूर्वक प्रार्थना तथा दृढ़ विश्वास है कि जद्दों जो कुछ मूलघुरु थे उसे सुधार , छरंग जार दस्चिरित्र परमपवित्र समझकर अवश्य श्रवण कीतेन करेंगे मा दोद्ा-भपनी भोर निद्दारके, क्षमाझरों अपराध ॥ ते ४, जिद तिंदद विधि दस्गियये, फदत खकक श्रुदि साध ॥ - । क्षीर यद परम अम्ृतमत्र जो रदत्य ६ बढ बाणीसे परे है इसलिये भक्जनोंडे मिर्मेऊ हुदय्मे झ्लापय प्रकाशमान होजायगा इसस्र रैजिस्टरी इक खेमराज श्रीकृष्णदास “श्रीवेइटेशवर” स्टीमू-यन्त्राव्यावीशकों समर्पध है ॥ ५... रागरूनाकर तथा मक्तचिन्तामाणे संग्रहकर्चो-- * 8० ः खाएका दास-मक्तर॒ाम, छांपरनिवासी..शक];5 6# एकककन अफसर अल कस अमन पी न फज कल मटरकर्क आधीमन रद क 3८139 2/3लयशलिदताईकेड़गो[/द] कर2६15: कि की की की ाब्की व की व तक छ की 5 करगिल करविलिरगा पु) फ $ हुभर




User Reviews

अभी इस पुस्तक का कोई भी Review उपलब्ध नहीं है | कृपया अपना Review दें |

अपना Review देने के लिए लॉग इन करें |
आप फेसबुक, गूगल प्लस अथवा ट्विटर के साथ लॉग इन कर सकते हैं | लॉग इन करने के लिए निम्न में से किसी भी आइकॉन पर क्लिक करें :