प्राचीन भारत का साहित्यिक एवं सांस्कृतिक इतिहास | Prachin Bharat Ka Sahityik Avam Sanskritik Itihas

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
श्रेणी : ,
शेयर जरूर करें
Prachin Bharat Ka Sahityik Avam Sanskritik Itihas by निरंजनसिंह - Nirnjan Singh

एक विचार :

एक विचार :

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

निरंजनसिंह - Nirnjan Singh के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है | जानकारी जोड़ें |

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(देखने के लिए क्लिक करें | click to expand)
प्राचीन भारत का साहित्यिक एवं सॉस्कृतिक इतिहास एक परिचय 7 साँख्य एक प्राचीनतम दर्शन है । साँख्य के प्रणेता के रूप में म्दाषि कपिल का नाम ग्रादरणीय है । कपिल का साँख्यसूत्र सख्य दर्शन का श्राघार है । कपिल के स्थितिकाल के विपय में निश्वयतः कुछ नहीं कहा जा सकता । फिर भी साँख्य सूत्र पाँचवीं शती ईसा पूर्वे की रचना श्रवश्य है । साख्य दर्शन के विकासकर्त्ता के रूप में ईश्वर कृष्ण को पर्याप्त महत्त्व मिला है । ईश्वर कृष्ण भा स्थितिकाल चौथी शताब्दी है । इनका साँख्यकारिका ग्रन्थ साँख्य दर्शन का विद्वतापुर्ण ग्रन्थ है । श्राचाये माठर की माठरवृत्ति भी साँख्य दर्शन का महत्त्वपूर्ण ग्रव्थ है । माठराचायें का समय छठी शताब्दी निश्चित है । पतजलिं का योगसूत्र योगदर्शन का प्रामारिगिक ग्रन्थ है । पतंजलि का स्थिति- काल ईसा पूर्व द्वितीय शत्ताव्दी मान्य है । योग से सम्बन्धित श्रनेक ग्रन्थों का उल्लेख मिलता है परन्तु वे सभी ग्रन्थ श्राज श्रप्राप्य हैं । साँख्य दर्शन की भाँति योग दर्शन भी स्व भाववादी दर्शन है परन्तु दोनों की विकास-प्रक्रिया भिन्न है । महर्षि गौतम द्वारा प्रतिपादित न्याय-सिद्धान्त न्यायदर्शन के रूप में मान्य है । दूसरी शताब्दी में अरक्षपाद गौतम ने न्यायसूत्र नामक प्रामाणिक ग्रन्थ की रचना की । न्याय दर्शन के विकास में उद्योतकर (7वीं शती) का न्यायवातिक विशेष रूप से प्रसिद्ध है । नवम्‌ शताब्दी में श्राचायं घर्मोत्तर ने न्यायविन्दु टीका नामक ग्रस्थ की रचना करके तथा दशम शताब्दी में श्राचायें जयन्त भटूट ने न्याय-मंजरी लिखकर न्यायद्शन का विकास किया । बौद्ध दार्शनिक दिडताग तथा घर्मकीति ने कमशः छठी तथा सातवीं शताब्दी में वौद्ध-न्याय के विकास में महत्त्वपूर्ण योगदान दिया । बौद्ध दाशेनिकों तथा नेयार्धिकों की खण्डन-मण्डन परम्परा के कारण स्पायदशेंन का श्रमूतपुर्व विकास हुग्रा । महर्पि कणादू वैशेपिक दशंन के प्रवतेक के रूप में विख्यात हैं । महर्षि करादु का समय चौथी शती ई. पृ. निश्चित है । कणाद्‌ का वैशेषिक सूत्र वैशेषिक दर्शन का मूल श्राघार माना जाता है । श्राचायें प्रशस्तवाद ने चौथी शताब्दी में पदार्थ-धमें-संग्रह नामक ग्रन्थ की रचना की । इस ग्रन्थ के ऊपर दसवीं शत्ताब्दी में उदयनाचार्य ने किरणावली तथा श्रीघराचायें ने न्याय-कंदली नामक टीका लिखी । चैशेपिक दर्शन परमाणुवादी दर्शन हैँ । मीमांसा दर्शन के सुत्रपात का श्रेय श्राचाये जैमिनि को है । इनके मीमांसा सूत्र नामक ग्रन्थ का रचना-काल 550 ई. पूर्व है । शबर स्वामी का शावर भाष्य मीमांसा दर्शन का एक पुनरुद्धारक ग्रत्थ है । शावर भाष्य पर कुमारिल ने सातवीं शत्तान्दी में प्रामाणिक टीका की 1 कुमा रिल का मत भाट्टमत के नाम से प्रसिद्ध है। शावर भाष्य के दूसरे टीकाकार प्रभाकर हुए । प्रभाकर का मत गुरुमत नाम से जाना जाता है। मुरारि शावर भाष्य के तीसरे प्रसिद्ध टीकाकार हुए । मुरारि के मत को सुरारिमत के रूप में जाना जाता है । मीमांसा दर्शन में श्राद्योपात्त कमेंका ण्ड की प्रधानता दृष्टिगोचर होती है 1




User Reviews

अभी इस पुस्तक का कोई भी Review उपलब्ध नहीं है | कृपया अपना Review दें |

अपना Review देने के लिए लॉग इन करें |
आप फेसबुक, गूगल प्लस अथवा ट्विटर के साथ लॉग इन कर सकते हैं | लॉग इन करने के लिए निम्न में से किसी भी आइकॉन पर क्लिक करें :