नाभादास कृत भक्तमाल एक अध्ययन | Nabhadas Krit Bhaktmal Ek Adhyayan

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
शेयर जरूर करें
Nabhadas Krit Bhaktmal Ek Adhyayan by प्रकाशनारायण दीक्षित - Prakash Narayan Dixit
लेखक :
पुस्तक का साइज़ : 5.7 MB
कुल पृष्ठ : 186
श्रेणी :
हमें इस पुस्तक की श्रेणी ज्ञात नहीं है | श्रेणी सुझाएँ


यदि इस पुस्तक की जानकारी में कोई त्रुटी है या फिर आपको इस पुस्तक से सम्बंधित कोई भी सुझाव अथवा शिकायत है तो उसे यहाँ दर्ज कर सकते हैं |

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

प्रकाशनारायण दीक्षित - Prakash Narayan Dixit

प्रकाशनारायण दीक्षित - Prakash Narayan Dixit के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है | जानकारी जोड़ें |
पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश (देखने के लिए क्लिक करें | click to expand)
(५ ) भगवत्त भक्त अवसिप्ठ की कोरति कहत सुजान है । हरि प्रसाद रस स्वाद के भक्त इते परमान हैं ॥ इसके आधार पर न तो नाभादास का भी प्रकार परिचय ही मिल प्याता हैं और न काव्य-कौद्यल का ठीक-ठीक अनुमान ही लगाया जा सकता हैँ । सरोज के पदचात्‌ नाभादास जी के सम्बंध में सविस्तार परिचय और विवरण देने का कार्य मिश्रवंधु विनोद में सम्पन्न हुआ । विद्वान लेखकों ने लगभग चार पुप्ठों में नाभादास और प्रियादास का परिचय दिया हैं । मिश्रबंदु पहले इतिहास- कार हैं जिन्होंने नाभादास के उपेक्षित व्यक्तित्व के प्रति इतना व्यान दिया है । सिथ्वंधु निम्नलिखित विपयों पर प्रकाग डालते हैं (क) नाभादास के गुरु का नाम (ख) नाभादास का समय (ग) भक्तमाल को रचना-तिथि घ) नाभादास की जाति ) नाभादास का निधन काल ) नाभादास एक भक्त के रूप में ज) नाभादास एक कवि के रूप में (झ) नाभादास के अन्य ग्रन्यों का परिचय (ट) नाभादास का महत्त्व न्श पं | | ध् उपलिखित इन विपयों का अव्ययन करने से यह स्पप्ट हो जाता है कि नाभा- -दास के सम्बंध में मिथ्वंघु ने जो कुछ सामग्री दी है वह हिन्दी में सर्वया मौलिक आर नवीन है । इतने विस्तार के साथ नामादास का आलोचनात्पक अध्ययन हिन्दी में सम्भवत इससे पूर्व नहीं हुआ था । नाभादास के व्यक्तित्व और रचनाओं के सम्बंध में मिश्नवंधु विनोद से हमें पर्याप्त सूचनाएँ प्राप्त हो जाती हैं । सबसे बड़ी वात यह हैं कि विनोद के वाद में लिखे जाने वाले इतिहासों में इन्हीं वातों (नाभादास के गुरु का नाम समय भक्तमाल की रचना-तिथि नाभादास की जाति नाभादास के ग्रन्थ आदि) की पुनरावृत्ति हुई है । मिश्रवंु विनोद के अनन्तर गुक्ल जी लिखित हिन्दी साहित्य का १. शिवसिह सेंगर सरोज सातवाँ संस्करण पृ० १७१ २. मसिश्रवन्चु विनोद चतुर्य संस्करण पृ० ३५७-६९१




  • User Reviews

    अभी इस पुस्तक का कोई भी Review उपलब्ध नहीं है | कृपया अपना Review दें |

    अपना Review देने के लिए लॉग इन करें |
    आप फेसबुक, गूगल प्लस अथवा ट्विटर के साथ लॉग इन कर सकते हैं | लॉग इन करने के लिए निम्न में से किसी भी आइकॉन पर क्लिक करें :