भारतीय विपरण में सरकार की भूमिका का मूल्यांकन | Bharatiya Biparan Me Sarkar Ki Bhumika Ka Mulyankan

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
शेयर जरूर करें
Bharatiya Biparan Me Sarkar Ki Bhumika Ka Mulyankan by हरिश्चन्द्र मालवीय - Harishchandra Malviya
लेखक :
पुस्तक का साइज़ : 29.8 MB
कुल पृष्ठ : 484
श्रेणी :
हमें इस पुस्तक की श्रेणी ज्ञात नहीं है | श्रेणी सुझाएँ


यदि इस पुस्तक की जानकारी में कोई त्रुटी है या फिर आपको इस पुस्तक से सम्बंधित कोई भी सुझाव अथवा शिकायत है तो उसे यहाँ दर्ज कर सकते हैं |

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

हरिश्चन्द्र मालवीय - Harishchandra Malviya

हरिश्चन्द्र मालवीय - Harishchandra Malviya के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है | जानकारी जोड़ें |
पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश (देखने के लिए क्लिक करें | click to expand)
एवं अवांछित फ्रियाओं का नियमन रवं नियंत्रण करती है । इस ट्राॉष्टि ते आर्थिक क्षेत्र में तरकारी हस्तक्षेप अनिवार्य सा होता जा रहा है | यह अवशय है कि सरकारी हत्तद्षेप रवं निर्यत्रण की दिशाएं तथा तौर- तरीके बदलते रह सकते हैं । कारण कि प्रत्येक पीढ़ी अपनी समस्याओं को अपनी ट्राष्टि से देखी है । इस प्रकार सरकार देश मैं राजनी तिक शव अधिक संस्कृति का पोषण करती है और साथ ही अपने नागाकॉँ के बहुमुखी व्याक्तत्व के घिकास हेतु आर्थिक देन का नियमन स्व नि्वत्रण करती है । प्रत्पैक राष्ट्रीय सरकार चाहे वह समाजवादी हो या पूजीव दी अध्षा वाम्पावादीडही राष्ट्रीय हित के लिये व्यीक्तगत आर्थिक फ्रियाओँ पर नियंत्रण कामोपेशी रूप में करती है । इस हत्त्देप्र ते चिश्व के हर राष्ट्र मैं हक नया आा ्िक दर्शन घिकसित हो रहा है जो सरकारी देन्त को अप रिहार्य बनाता जा रहा है और तभी सम्बद्ध पक्षों के समझा व्यवसाय स्व विपणन सम्बन्धों की स्थापना की चुनौती भी प्रस्तुत करता जा रहा है । आज सरकार एक प्रमुख सेव योजक कै रूप मैं तामन आ रही है ड्स लिश् व्यवसाय व विपणन तक सरकार सम्बन्धों का महत्व बढ़ता जा रहा है । लिए दाधयाल लंदीकिधॉरिफवलक पाला वाया लाया यदि दादा मयाधाललवकलवश ाययवययाया ववायदपयकया पाला बाय कला पाए धावदल दर दायदादययदया कककयायाक एवशइलददॉक सवदयाशकदयद दाद दबाए नल 2... बजाज एवं पीरवार सरकार तमाज रवं व्यवसाय 1रतर्च पाब्लकेशन इन सोसल साइंस पुध्ठ 152




  • User Reviews

    अभी इस पुस्तक का कोई भी Review उपलब्ध नहीं है | कृपया अपना Review दें |

    अपना Review देने के लिए लॉग इन करें |
    आप फेसबुक, गूगल प्लस अथवा ट्विटर के साथ लॉग इन कर सकते हैं | लॉग इन करने के लिए निम्न में से किसी भी आइकॉन पर क्लिक करें :