शरत - साहित्य | Sharat Sahitya

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
शेयर जरूर करें
Sharat Sahitya by डॉ. महादेव साहा - Dr. Mahadev Saha

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

डॉ. महादेव साहा - Dr. Mahadev Saha के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है | जानकारी जोड़ें |

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(देखने के लिए क्लिक करें | click to expand)
श्श्‌ २१ काजी अब्दुढ बदुद--कोषकार निवन्धकार उपन्युसकार ओर जीबनीकार । मीरपरिवार दिन्दू-सुसलमान गेटे क्रीएटिव-बेंगाल आदि इनकी रचनायें हैं । हर २२ उमराप्रसाद सुखोपाध्याय--स्वर्गीय आशुतोष सुखोपाध्यायके पुत्र सादित्य-रसिक और बंगवाणी के सम्पादक । इसी पत्रिकामें पहले पटल धारावाहिक रूपमें पथेर दावी ( पथके दावेदार ) नामक दरत्वन्द्रका उपन्यास प्रकाशित हुआ था । ९३ रवीन्द्रनाथ ठाकुर--परिचय अनावश्यक । २४ केदारनाथ वन्योपाध्याय--सुप्रसिद्ध उपन्यास और कहद्दानीकार । बंगछा-साहित्यमें दादा मोसाय के नामसे प्रसिद्ध । इन्होंने शोष खेया अमराकि ओके कबुखति पाथेय दुक्खेर दिवाली इत्यादि दर्जनों उपन्यास और कहानियाँ छिखी हैं । चीने यात्रीमें इन्दोंने वक्‍्सर-विद्रोहके समयकी अपनी चीन यात्राका विवरण दिया है । ः २५ चारुचन्द्र चन्योपाध्याय--मौलिक और विदेशी छाया लेकर कई देजन उपन्यासोंके लेखक । यमुना पुलिने मिखारिनि दोटाना चोर कौंटा देरफेर हाईफेन आदि इनको प्रसिद्ध रचनायें हैं । रवि-रदमि नामसे इन्होंने रवीन्द्रनाथपर एक पुस्तक लिखी है | रद महेन्द्रनाथ करण--बंगालकी तथाकथित अछूत पोद जातिके कार्यकर्ता । फौन्दू क्षत्रियबंध-परिथय पुस्तकके लेखक और दारत्‌ नचम्द्रके भक्त । २७ अमछ होम--प्रसिद्ध पत्रकार साहित्यरसिक और दरत्चन्द्रके अनन्य भक्त । २८ सुरेन्द्रनाथ गंगोपाध्याय--साहित्यरसिक और शरतूचन्द्र के रिंद्तेमें मामा । ं २९ मणीन्द्रनाथ राय--सादित्यरसिक और दारतूचन्द्रके मित्रके पुत्र ३० घुद्धदेव भट्टाचाये--साइित्यरसिक और शरतूचन्धफें भक्त । वनस्पतिद्यास्त्रके अध्यापक ।




User Reviews

अभी इस पुस्तक का कोई भी Review उपलब्ध नहीं है | कृपया अपना Review दें |

अपना Review देने के लिए लॉग इन करें |
आप फेसबुक, गूगल प्लस अथवा ट्विटर के साथ लॉग इन कर सकते हैं | लॉग इन करने के लिए निम्न में से किसी भी आइकॉन पर क्लिक करें :