हिन्दू संस्कृति और साहित्य | Hindu Sanskrati Aur Sahitya

Hindu Sanskrati Aur Sahitya by प्रो. जनार्दन मिश्र - Prof. Janardhana Mishra
लेखक :
पुस्तक का साइज़ : 2.99 MB
कुल पृष्ठ : 132
श्रेणी : , , , , , , ,
Edit Categories.


यदि इस पुस्तक की जानकारी में कोई त्रुटी है या फिर आपको इस पुस्तक से सम्बंधित कोई भी सुझाव अथवा शिकायत है तो उसे यहाँ दर्ज कर सकते हैं |

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

प्रो. जनार्दन मिश्र - Prof. Janardhana Mishra

प्रो. जनार्दन मिश्र - Prof. Janardhana Mishra के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है | जानकारी जोड़ें |
पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश (देखने के लिए क्लिक करें | click to expand)
दिन्दू संस्कृति की -प्रस्नावना ्द पीताम्चर है । (३) संसार की दों सबसे बड़ी ंक्तियाँ छकष्मी ( घन ) और सरस्वती ( ज्ञान ) इनकों गृह देवियाँ हैं । (४) इनके इशारे पर ये दोनों जगत में अपना चृत्य दिखलाती हैं । लक्ष्मी कमलवन में निवास करती है और मत्त हाथी इनकी सेवा करते हैं । उल्छू इनका वाददन हैं । इसका थे है कि धन से विलासिता और गौरव की दबद्धि होती है। हाथी या बढ़ी बड़ी सोटरों से इसका महत्व प्रकट होता है । जिसने धन एकत्र करना घ्यपने जीवन का उद्देश्य वना लिया वद्द दिवान्ध उल्त्यू है । वह ज्ञान झथवा सरकर्म कें ्मालोक को सहन नहीं कर सकता । ये क्षीरसागरकन्य का हैं ्रथात्‌ सामुद्रिक व्यापार से प्रचुर घन की प्राप्ति ोती है । सरस्वती के हाथ से वीणा पुस्तक और स्फटिक की साठा हैं । वीणा श्र पुस्तक कड़ा तथा ज्ञान के सछुत है । (३) अनस्तपादं बहुददस्तनेत्रम नल्त कर्ण ककुभो वव सघन । सूरसिंदस्तुति स्कन्द ० विप्शुखण्ड अध्याय १६. ४४ (४) विश्नस्सरस्वतीं वक्तू स्वेज्ञोथसिनमो 5स्तुते । लद्षमीवान्‌ अस्पतो ल्द्मी विश्रददक्षसि बानव ॥ घ्र्झ० 1२९ ७१ वामपदबंगता लूदमीराश्टिटा पद्मपांणिना 1 चल्लकीवादनपरा भगवन्सुखकोचना ॥ स्कन्द० चि० १०. दे कल (०8 1 एप ० एखा ० 5प्ाघ्5शा पा (00121 #रि80 585 ना ६ 15 ०00६10पएर्डाष् दं0लावंल पदा€ पिए 5शाघ5४४५1 15 ५0 9९-०६ हे घफृ0ण 85 8 5ॉएशदिप एव डाएश . 5 15 किए 50ए06पा165 ए00-- ८्डाएटपे घ5 8 आवरण 0 एड... पतंलस्‍एं प.घािडी।एा 3्ाघ5६ 8101. सापएं ?कारशाा मा था। 1तेह0पपरिटिए चाप तट एए6 12671 निपतता 1८ण०्ण०डप्श्फूफि ०] वा एप. 1 ? ए. 378




  • User Reviews

    अभी इस पुस्तक का कोई भी Review उपलब्ध नहीं है | कृपया अपना Review दें |

    अपना Review देने के लिए लॉग इन करें |
    आप फेसबुक, गूगल प्लस अथवा ट्विटर के साथ लॉग इन कर सकते हैं | लॉग इन करने के लिए निम्न में से किसी भी आइकॉन पर क्लिक करें :