राजस्थान का पिंगल साहित्य | Rajasthan Ka Pingal Sahitya

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
श्रेणी :
Rajasthan Ka Pingal Sahitya by मोतीलाल मेनरिया - Motilal Menriya

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about मोतीलाल मेनरिया - Motilal Menriya

Add Infomation AboutMotilal Menriya

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
हूँ है. प्रयाण फे समय ठोलो आर ढाड़ो लोग इसे सेना फे आगे गाते हुए चलते थे । डिंगत भाषा फे फबियों ने इसफा वर्णन फिया हैं” । युद्ध का अवसर न होने से यह राग बाय दाने: घने: घिव्मुत होता चला जा रहा हूँं। संगीत-दास्त्र संबंधों प्राचीन संस्यत्त प्रंयां में इस राग का नामोत्लेंप्र नहीं मिलता । परन्तु भठारयीं दाताददो बीर उसके याद फे फुछ प्रंयों में इसका नाम देसने नें माता है । उदयपुर के सरस्पती-भें डार में “रागमाला' फो एक चित प्रति सुरक्षित है। यह फदाचित महाराणा जर्पासिह के राजत्व-फाल (सं० १७२७-५४) में तंयार की गई थो । घसमें राग शिधू को राग दीपक फा पुत्र वतलाया गया हैं । इसमें राग लियू प्या एफ भव्य चित्र थी हूं । हि संगोत फला फे साथ-नाथ संगीत्त-साहित्य फो भी राजस्थान से बहुत प्रोह्ाहन मिला है । संगोत-दास्न संघंधी फई उत्फृप्ट प्रंथ यहाँ सिये गये है जिनमें संगीत-फला के चघिविघ अंगों का चड़ा सुकष्म और चेशानिफ विवेचन मिलता हैं । इनमें मेचाइ पे सहाराणा फुनाजी (सं० १४६०-१५२५) के रखे चीन ग्रंथ चहुत प्रसिद्ध हे-संगीत-मीमांसा, संगीतराज शोर सुडप्रबंध? 1 प्रनमें संगीतराज सब से चड़ा है। फहा जाता है कि इसमें १६००० दलोफ थे । परंचु आजफत यह ग्रंय पूरा नहीं मिलता । जयपुर के फछवाहा राजा सगवंतदास (सं० १६३०-४६) के पुत्र सापचसिदह्द बड़े संयोत-प्रेसी थे । इन्होंने खानदेदा के पुंडरोक चिद्ल से राग-मंजरो' नाम या एक प्रंथ लिसवाया था. जो प्रकादित भी हो चुका हु। भगवंतदास से कोई दो सो य् ना 12, (के) हुबो अत्ति सींववी सगे बागी हकां । घाट आया पिसण घाट लागे धकाँ 11 -सरदास [संग १५४५-१६७५) (सर) सखी अमीणों साहियो, निरग काठी नाग । सिर रास मिण सांमधम, री सिंधू राग 11 -वॉकीदास (सं० १८२८-९०) ७ (ग) आाठस जाग ऐस में, यपु ढीले विकसंत । मींवू सुणियाँ सी गुणी, कब्न न सात कंत 11 . -सुरजमल (सं० १८७२-१९२४) 13. हरबिलास सारड़ा; महाराणा कुंभा, पु १६६ व, एम० कृप्णमाचार्य ; हिस्ट्री भाव वलासिकल संस्कृत लिटरेचर, पु० ८६२ 15, ओझा; राजपूताने का इतिहास, पहली जिल्द, पू० ३२




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now