राज योग विद्या | Raj Yog Vidhya

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
शेयर जरूर करें
Raj Yog Vidhya  by पं सत्येश्वरानंद शर्म्मा लखेड़ा - Pt. Satyeswaranand Sharmma lakheda
लेखक :
पुस्तक का साइज़ : 4.21 MB
कुल पृष्ठ : 184
श्रेणी :
हमें इस पुस्तक की श्रेणी ज्ञात नहीं है | श्रेणी सुझाएँ


यदि इस पुस्तक की जानकारी में कोई त्रुटी है या फिर आपको इस पुस्तक से सम्बंधित कोई भी सुझाव अथवा शिकायत है तो उसे यहाँ दर्ज कर सकते हैं |

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

पं सत्येश्वरानंद शर्म्मा लखेड़ा - Pt. Satyeswaranand Sharmma lakheda

पं सत्येश्वरानंद शर्म्मा लखेड़ा - Pt. Satyeswaranand Sharmma lakheda के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है | जानकारी जोड़ें |
पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश (देखने के लिए क्लिक करें | click to expand)
थ् चिंपय प्रवेश | रणवन्वु विश्वे अग्धतस्य पुत्रा आये घामानि दिच्यानि तस्थुः । वेडाहसेतं पुरुष सहान्त मादित्यवर्ण तससः परस्तात्‌| तमेव॑ विदित्वातिसत्युसेति नान्यः पन्‍्था बिद्यते- यनाय | दे भूत की सन्तानों दे दिल्‍्प घास निधासियों खुनों इस अलघ्वानान्धकार से छान रूपि श्रकादा में पईुचसे का रास्ता पा लिया है - जो इस सारे तस ( अन्धफार ) से परे हूं उनको जान लेने से ही उल श्ञानोज्घल (शान से देदीप्यसान) स्थान में पहुँचा जाता है सुक्ति का इससे अतिरिक्त और कोई उपाय नहीं है । राजयोग चिया इसी सत्य को प्राप्त करने के लिए और इसमें यथार्थ सफलता पाने के लिए थ इस साधना के उपयोगी चैज्ञानिक घणाली को मनुष्यों के विपय में स्थर्पित करने का घस्ताव फ्रती है । इसमें सबखे पदिटी वात तो यह है कि घत्येक चिद्या फी दी अनुसन्धान व. साधन प्रणाली जुदी खुददी हुआ करती है । जैसे यदि तुम ज्योतिपि होना चाइो और चैठे २ केबल ज्योतिप २ की रद छगाकर खिल्‍्छाते रदो तो ज्योतिप का तुम्दें कुछ भी ज्ञान न दो पायेगा । रसायन-शास्त्र के विषय में भी यही घात है इसमें सफ्ंखता पाने के लिए भी




  • User Reviews

    अभी इस पुस्तक का कोई भी Review उपलब्ध नहीं है | कृपया अपना Review दें |

    अपना Review देने के लिए लॉग इन करें |
    आप फेसबुक, गूगल प्लस अथवा ट्विटर के साथ लॉग इन कर सकते हैं | लॉग इन करने के लिए निम्न में से किसी भी आइकॉन पर क्लिक करें :