राज योग विद्या | Raj Yog Vidhya

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
श्रेणी :
शेयर जरूर करें
Raj Yog Vidhya  by पं सत्येश्वरानंद शर्म्मा लखेड़ा - Pt. Satyeswaranand Sharmma lakheda
लेखक :
पुस्तक का साइज़ :4.21 MB
कुल पृष्ठ :184
श्रेणी :


यदि इस पुस्तक की जानकारी में कोई त्रुटी है या फिर आपको इस पुस्तक से सम्बंधित कोई भी सुझाव अथवा शिकायत है तो उसे यहाँ दर्ज कर सकते हैं |

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

पं सत्येश्वरानंद शर्म्मा लखेड़ा - Pt. Satyeswaranand Sharmma lakheda

पं सत्येश्वरानंद शर्म्मा लखेड़ा - Pt. Satyeswaranand Sharmma lakheda के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है | जानकारी जोड़ें |
पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश (देखने के लिए क्लिक करें | click to expand)
थ् चिंपय प्रवेश | रणवन्वु विश्वे अग्धतस्य पुत्रा आये घामानि दिच्यानि तस्थुः । वेडाहसेतं पुरुष सहान्त मादित्यवर्ण तससः परस्तात्‌| तमेव॑ विदित्वातिसत्युसेति नान्यः पन्‍्था बिद्यते- यनाय | दे भूत की सन्तानों दे दिल्‍्प घास निधासियों खुनों इस अलघ्वानान्धकार से छान रूपि श्रकादा में पईुचसे का रास्ता पा लिया है - जो इस सारे तस ( अन्धफार ) से परे हूं उनको जान लेने से ही उल श्ञानोज्घल (शान से देदीप्यसान) स्थान में पहुँचा जाता है सुक्ति का इससे अतिरिक्त और कोई उपाय नहीं है । राजयोग चिया इसी सत्य को प्राप्त करने के लिए और इसमें यथार्थ सफलता पाने के लिए थ इस साधना के उपयोगी चैज्ञानिक घणाली को मनुष्यों के विपय में स्थर्पित करने का घस्ताव फ्रती है । इसमें सबखे पदिटी वात तो यह है कि घत्येक चिद्या फी दी अनुसन्धान व. साधन प्रणाली जुदी खुददी हुआ करती है । जैसे यदि तुम ज्योतिपि होना चाइो और चैठे २ केबल ज्योतिप २ की रद छगाकर खिल्‍्छाते रदो तो ज्योतिप का तुम्दें कुछ भी ज्ञान न दो पायेगा । रसायन-शास्त्र के विषय में भी यही घात है इसमें सफ्ंखता पाने के लिए भी




  • User Reviews

    अभी इस पुस्तक का कोई भी Review उपलब्ध नहीं है | कृपया अपना Review दें |

    अपना Review देने के लिए लॉग इन करें |
    आप फेसबुक, गूगल प्लस अथवा ट्विटर के साथ लॉग इन कर सकते हैं | लॉग इन करने के लिए निम्न में से किसी भी आइकॉन पर क्लिक करें :