वीर पंचरत्न | Veer-panchratna

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Veer-panchratna by भगवानदीन - Bhagawanadeen

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about भगवानदीन - Bhagawanadeen

Add Infomation AboutBhagawanadeen

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
(विज चुचों चित्र पृ ९--ग्र थकर्ता करे ७9७ ७९9 प्रथम २-मद्दाराणा प्रताप्विंद *** (बहुर्जज) .. *** र्२ ३--दल्दीघाटीका यु. भ्कश ८... दे इन-रामनहदमण «।'... कतार लि अनासमनकष्ण ०...” थक ०». परत इ६-लव-कुश ”' शक ,««... दि उ--स्मिमन्युकी स्णन्याता ** भर ०... ८८ ८--श्रमिमन्यु बौरसप्तमहार्थी . «» (दो रंगा) ,,८.... ६.६ ६--वीर बालक बच्ुबाइन _ *** भर नप्स, रे ३०--श्रमयवंद तौर निर्मय्चेद««» थी .... रैहे +१--ब्मयर्दिह् श्रौर रणुजीतर्षिंद वि. १२-तारा सदा भर और ,..... र४८ १३-सां थक ००“... *** ५००... 0 पपि ३४--कलाववी कि... कसम नि ००... 5 शश-सरदासया . *'... '”' मत ,.,.. रे९० ३६--किर्णदेवी न... कर दम ,.» - २९८ १७--वीरमती वा वीरा कि कर ,.... रेरेई ३२८--मीम और बकराक्षठ «०* कर ,,, .. ३७३ १६-रेखुका तर परशुराम «ः* क रेट २०--रावमती भभ सम पर ..... रे दे २१-नीशीटेवी कप ि ग ,.. . हैरेरे




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now