वैदिक सिद्धान्त सम्पन्न | Vedic Siddhanta Sampann

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
शेयर जरूर करें
Vedic Siddhanta Sampann by नाथूराम शंकर शर्मा - Nathuram Shankar Sharmaहरिशंकर शर्मा - Harishanker Sharma
लेखक : ,
पुस्तक का साइज़ : 8.64 MB
कुल पृष्ठ : 276
श्रेणी :
हमें इस पुस्तक की श्रेणी ज्ञात नहीं है | श्रेणी सुझाएँ


यदि इस पुस्तक की जानकारी में कोई त्रुटी है या फिर आपको इस पुस्तक से सम्बंधित कोई भी सुझाव अथवा शिकायत है तो उसे यहाँ दर्ज कर सकते हैं |

लेखकों के बारे में अधिक जानकारी :

नाथूराम शंकर शर्मा - Nathuram Shankar Sharma

नाथूराम शंकर शर्मा - Nathuram Shankar Sharma के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है | जानकारी जोड़ें |

हरिशंकर शर्मा - Harishanker Sharma

हरिशंकर शर्मा - Harishanker Sharma के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है | जानकारी जोड़ें |
पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश (देखने के लिए क्लिक करें | click to expand)
ननरससनटपनपटटटटनय | र्‌ .₹ |] व पलपल जा हा तारा ला ध्ा्भाध्भत्धाभाधाााशाशााशाएएल्‍ुएएंटा पभने अतुकूल काल फेरा । चमके अनुरागरत्त मेरा ॥१४॥ त्तनदश्य जरा अशक्ति का है । घन भाजन जाति भक्ति का है ॥। धनराशि न पास दास को है । सदुभापण मात्र मान को है ॥ यश उज्ज्वलका उधार घरा । चुपके शनुरागरत्त मेरा ॥१५॥। झनुभूत विवेक यंत्र ढाला-। मथ सत्यसमुद्र को निकाला ॥। घर चण सुवणे में .जड़ा है । हित के हिय हार में पढ़ा है ॥ चतलाये-न लाख का लखेरा । पमके झनुरागरत्त पमंरा ॥१६॥। सगवती-सारती ( सारठा ) जिसके आननचार उत्तम अन्त करण हैं । दुद्दिता परमोदार उस#विरज्चिकी भारती ॥९॥ ं | न सरस्वतीकी सहावीरता (४) +( सुजड़म्रयात )+ -महावीरता भारती धारती है । प्रमादी मह्ामोछकों मारती हट ॥ बड़ोंफे बड़े कासकी है लड़ाई । सिलीश्री/सिली है सिलेगीवड़ाइ ॥१॥ न भारती न सरस्वती घायसुदेवता जीव की चंद शाक्त ।जस क द्वारा सपने विचारों फो दूसरा पर प्रकट फरता दे मार शात्मशता पूनक घ्रह्मफा च्याख्याता घनता द उप्तम झन्तः फरर न सत्यसस्पसमन १ ानाचशिएायुस्ध २५ योगयुक्त ।वित्त २. पात्मप्रति्ठापूशा झद्देकार ४7 % विराब्चि न चह्मा मात जीवात्मा




  • User Reviews

    अभी इस पुस्तक का कोई भी Review उपलब्ध नहीं है | कृपया अपना Review दें |

    अपना Review देने के लिए लॉग इन करें |
    आप फेसबुक, गूगल प्लस अथवा ट्विटर के साथ लॉग इन कर सकते हैं | लॉग इन करने के लिए निम्न में से किसी भी आइकॉन पर क्लिक करें :