गोम्मटसार कर्मकाण्ड | Gomatsar karmkand

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
शेयर जरूर करें
Gomatsar karmkand by पं. मनोहरलाल - Pt. Manoharlal
लेखक :
पुस्तक का साइज़ : 16.57 MB
कुल पृष्ठ : 324
श्रेणी :
हमें इस पुस्तक की श्रेणी ज्ञात नहीं है | श्रेणी सुझाएँ


यदि इस पुस्तक की जानकारी में कोई त्रुटी है या फिर आपको इस पुस्तक से सम्बंधित कोई भी सुझाव अथवा शिकायत है तो उसे यहाँ दर्ज कर सकते हैं |

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

पं. मनोहरलाल - Pt. Manoharlal

पं. मनोहरलाल - Pt. Manoharlal के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है | जानकारी जोड़ें |
पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश (देखने के लिए क्लिक करें | click to expand)
गोम्मटसार ।..... नि भष आगे केवलज्ञानके अविभागप्रतिष्छेदोंके प्रमाणखरुप उत्कृष्ट अन॑ंतानंतका खरूप कहते हैं- जघन्य- अनंतार्नतप्रमाण विरठन-देय-लाका ये तीन राशि स्थापन कर शलाकात्रयनिध्रापन करना । इस- श्रकार शलाकान्रयनिषापन करनेसे जो महाराशि उत्पन्न हो वह अन॑तानंतका एक मध्यममेद है । अन॑तके दूसरे दो मेद हैं एक सक्षयअनंत और दूसरा अक्षय अनंत । यहेतिक जो संख्या हुई व सक्षयअनंत है । इससे भागे अक्षयअनंतके भेद हैं क्योंकि इस मद्दाराणिमें आगे छह राशि अक्षय अन॑त्र सिलाई जाती है । नवीन वृद्धि न दोनेपर भी खर्च करते करते जिस राशिका अत नहीं भावे उसको अक्षयअनंत कहते हैं | इस महाराशिमं जीवरादिके अनंतवे भाग सिद्धराशि सिद्धराशिसे अनन्तगुणी निगोदराशि वनसति- कायराशि जीवराशिसे अनंतगुणी पुद्लराशि पुद्लसे भी अनंतगुणे तीनकालके समय और अलोकाकादके श्रदेश ये छहराक्षि मिलानेसे जो योगफल हो उसप्रमाण विरलन-देय-णठाका ये तीन राशि स्थापनकर शखाकात्रय निषापन करना । इसप्रकार शलाकातन्रय निषापन करनेसे जो राशि उत्पन्न हो उसमें धर्मद्रव्य और अधर्मद्रव्यके अगुरुलघुगुणके अनंतानंत अविभागप्रतिच्छेद मिलाकर योगफलप्रमाण विरन-देय- शलाका स्थापनकर फिर शलाकात्रयनिक्ापन करना । इसप्रकार दाछाकान्रयनिप्रापन करनेसे मध्यम अन- तानंतका मेदरुप जो महाराशि उत्पन्न हुई उसको केवलज्ञानके अविभागप्रतिच्छेदोंके समूहरूप रादिमेंसे घटाना और जो शेष बचे उसमें पुन वही मददाराशि मिठाना तब केवज्ञानके अविभागप्रतिच्छेदोंका श्रमाण- खरूप उत्कष्ट अनं॑तानंत होता हैं । उक्त महारादिकों केवलज्ञानमेंसे घटाकर फिर मिलानेका अभिन्राय थह्द है कि फ्रेचलज्ञानके अविभागप्रतिच्छेदोंका प्रमाण उक्त मद्दाराशिसे बहुत बडा है । उस महारादशिकों किसी दूसरी राक्षिसे गुणाकार करनेपर भी केवलन्नानके प्रमाणसे बहुत कमती रहता है । इसलिये केवल- ज्ञानके अविभागप्रतिच्छेदोंके प्रमाणका महत्त्व दिखलानेके छिये उपयुक्त विधान किया है । इस प्रकार संख्यामानके २१ मेदोंका कथन समाप्त हुआ । अब भागे उपमामानके आठ भेदोंका खरुप लिखते हैं--जो श्रमाण किसी पदार्थकी उपसा देकर कहा जाता है उसे उपमामान कदते हैं । उपमामानके मेद हैं १ पल्य ( यहाँ पत्य अथोत्‌ अनाज भरने- की जो सास उसकी उपमा है ) २ सागर ( यहोँ लवण समुद्रकी उपा है ) ३ सूच्यंगुल ४ श्रतरागुलू ५ घनांगुल ६ जगच्छेणी ७ जगत्पमतर और ८ लोक । इनमेंसे पल्यके ३ मेद हैं--१ व्यवदारपत्य ९ उद्घार- पत्य और ३ अद्धापल्य । व्यवहारपत्यका खरूप पूर्वाचायेनि इसप्रकार कहा है उसीको दिखलाते हैं-- पुद्टलद्रव्यके सबसे छोटे खंडको ( टुकडेको ) परमाणु कहते हैं अनंतानंत परमाणुओंके स्कंधको ( समूदरुप पिंडको ) अवसन्नासन्न कहते हैं ८ अवसन्नञासनका एक सन्नास्ञ ८ सन्नासन्का एक तूटरेणु ८ तृट- रेणुका एक त्रसरेणु ८ श्रसरेशुका एक रथरेणु ८ रथरेशुका एक उत्तम भोगभूमिवालॉका वालाप भाग ८ उत्तम शोगभूमिवालोंके वालाश्रका एक मध्यमभोगभूमिवालोंका वाठाश्र ८ मध्यम भोगभूमिवा- लोंके वालाप्रका एक जघन्यभोगभूमिचालोंका वाला ८ जघन्य भोगभूमिवालोंके वालाश्का एक कर्म- भूमिवालॉंका वालाग्र ८ कर्मेभूमिवालोंके वालाअकी एक ढीख ८ छीसोंकी एक सरसों ८ सरसोंका एक जी और जौका एक अगुलू होता है । इस अशुलकों उत्सेघागुल कहते हैं । न्वारो गतियोंके जीचोंके दारीर और देवोंके नगर तथा मदिरादिकका परिमाण इसी अशुलसे वर्णन किया जाता है । इस उत्से- घागुलसे पांचसी शुणा प्रमाणागुल ( भरतक्षेत्रके अवसर्पिणीकालके प्रथम चकवर्तीका अगुलू ) होता है। इस प्रमाणाशुलसे मह्दापर्वत नदी द्वीप समुद्र इद्यादिकका परिमाण कहा जाता हैं । भरत ऐरावत क्षेत्रके मनुष्योंका अपने अपने कालमें जो अगुल है उसे आत्मागुल कहते हैं । इससे झारी कलश धजुप ढोल हल मूशल छत्र मर इद्यादिकका श्रमाण वर्णन किया जाता है । ६ अयुलका एक पाद स पादका एक विलस्र ९ विलसका एक दाथ ४ दहाथका एक धघननुप २००० बचुपका एक कोश और ४ कोशका एक योजन होता है । प्रमाणागुलसे निष्पन्न एक योजन प्रमाण गहरा ओर एक योजनश्रमाण व्यासवाला एक गोल गर्त--रढा बनाना उस गर्तको उत्तम भोगभूमिवाछे मेंढेके वालोके अश्रभागोंसे भरना ।




  • User Reviews

    अभी इस पुस्तक का कोई भी Review उपलब्ध नहीं है | कृपया अपना Review दें |

    अपना Review देने के लिए लॉग इन करें |
    आप फेसबुक, गूगल प्लस अथवा ट्विटर के साथ लॉग इन कर सकते हैं | लॉग इन करने के लिए निम्न में से किसी भी आइकॉन पर क्लिक करें :