भैरवोपदेश | Bhairvopdesh

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
शेयर जरूर करें
Bhairvopdesh by मोतीलाल जी महाराज - Motilal Ji Maharaj
लेखक :
पुस्तक का साइज़ : 2.07 MB
कुल पृष्ठ : 167
श्रेणी :
हमें इस पुस्तक की श्रेणी ज्ञात नहीं है | श्रेणी सुझाएँ


यदि इस पुस्तक की जानकारी में कोई त्रुटी है या फिर आपको इस पुस्तक से सम्बंधित कोई भी सुझाव अथवा शिकायत है तो उसे यहाँ दर्ज कर सकते हैं |

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

मोतीलाल जी महाराज - Motilal Ji Maharaj

मोतीलाल जी महाराज - Motilal Ji Maharaj के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है | जानकारी जोड़ें |
पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश (देखने के लिए क्लिक करें | click to expand)
छ् शी मैरवोपदेश बाद को लव इस बात का पता चला तो मद्दाराज श्री मत दरि को इतना श्रायात पहुँचा कि वे श्पना राय्य प्रिय ख्ी घन श्रादि सब छोड़कर जन्नल में चले गये | मद्दारण्यमां.. पासियों. श्री. शुरूने स॒मात्स्पेन्द्ध नारूपघारी रूरने। ४ जन्नल में उनकी श्री श्रप्टमैरवों में से एक श्रीमगवान् रद से जिन्दोंने मगवाद्‌ मत्स्पेन्द्रवनाय के नाम से जन्म लिया था मेंठ हुई । मद्दा मैरवे श्री रूरू दे घारी जणी केन्द्र थी आवठता ने उगारी।. ६ चित्सत्व में से प्रकृति श्रपनी श्रावश्यक्तानुतार विसी एक महान व्यक्ति का उत्थान करती है । उसके केन्द्रस्य व्यक्ति कदते हैं। भी मद्दाराज मत हरि ऐसे ही रेन्द्रस्थ व्यक्ति थे | उनके शीघ्र उत्यान के लिये ही मगवान्‌ थी रु ने जन्म लिया था। उन्दोंने उनकी उबार लिया | जई ने पढ्यों चरण मां राजियो ते थयों त्यागि ने भीख नो भाजियों ते। ७ उनको देखते दो मद्दाराज मत इरि उनके चरया पर गिर पड़े शरीर सब ह्याग कर गुरू से मीग्व माँगते हुए कइने लगे प्रमू विश्व आ दुगखलु रूप देसूं कहो शान्ति ने दुःख मां कयां परेसूं | गे बम यद सिधि सदाद दुख से मरा गुदा दे । इसमें शान्ति केले प्राप्त दो रुकती दे ह मय




  • User Reviews

    अभी इस पुस्तक का कोई भी Review उपलब्ध नहीं है | कृपया अपना Review दें |

    अपना Review देने के लिए लॉग इन करें |
    आप फेसबुक, गूगल प्लस अथवा ट्विटर के साथ लॉग इन कर सकते हैं | लॉग इन करने के लिए निम्न में से किसी भी आइकॉन पर क्लिक करें :