संगीत दर्शन | Sangeet Darshan

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
श्रेणी : ,
शेयर जरूर करें
Sangeet Darshan by विजय लक्ष्मी जैन - Vijay Lakshmi Jain

एक विचार :

एक विचार :

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

विजय लक्ष्मी जैन - Vijay Lakshmi Jain के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है | जानकारी जोड़ें |

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(देखने के लिए क्लिक करें | click to expand)
1 विचार करना के सन में सबसे पहले कोई विचार होता है। यह विचार किसी घटना के परिणामस्वरूप भी पैदा हो सकता है । श्रपने मस्तिष्क में स्थित उसी विचार को वह कलाकृति के रूप में मू्ते रूप प्रदान करता है । कृति की धारणा उसके मस्तिष्क में स्पष्ट होनी जरूरी है । क्या बनाना है श्रथवा चित्रित करना है श्रथवा गाना है यहीं विचार यदि उसके मस्तिष्क में स्पष्ट नहीं होगा तो वह न चित्र बना सकता है न गा सकता है । 2 ध्यान को श्रपने विचार को साकार रूप देने के लिए उस पर ध्यान केन्द्रित करना उस पर चितन-मनन करना बहुत जरूरी है । एकचित्त हुए बिना न वह नवीन कल्पना कर सकता है श्रौर नही उसे प्रस्तुत कर सकता है । मूर्ति अ्रथवा चित्रकला में ध्यान विचलन से छनी-हथौड़ा अथवा तुलिका पर हाथ फिसलने से कृति खण्डित हो सकती है बिगड़ सकती है । अतः कृति बनाते समय ध्यान की एकाग्रता व उसी का मनन आवश्यक है । यहीं कारण है कि शिल्पी या चित्रकार कृति बनाते समय श्रपने विचारों में खोए रहते हैं । इस प्रकार के ध्यान व मनन से युक्त कृति ही सौन्दयंमयी होती है श्रौर भाव-सम्प्रेषण में सफल होती है । . 3 कल्पना 1018 ठा080070 --कत्पना के बिना कला का श्रस्तित्व नहीं है। कल्पना ही वह माध्यम है जिसके द्वारा कला सदा नवीन रूप धारण करती है । पुराने भवन निर्माण व श्राधुनिक भवन निर्माण प्राचीन चित्र शैली व झ्राधुनिक शैली भ्रादि में ्न्तर श्राने का बीज इसी कल्पना में निहित है । एक राग सेकड़ों वर्षों में भी पुरानी नहीं होती उसका कारण यहीं कल्पना है जिसके द्वारा हर गायक उसे श्रपने तरीके से प्रस्तुत कर न॑वीनता प्रदान करता है । विषय चाहे कलाकार प्रकृति से ले परन्तु प्रस्तुत उसे वह कल्पना से सजाकर ही करता है । 4 श्ाध्यात्मिकता काल से ही भारतीयों के जीवन में धमं व श्रध्यात्म की प्रधानता रही है इसलिए कला का श्रन्तिम उद्देश्य भी श्रध्यात्म से जुड़ा है । कला में इतनी शक्ति हो कि वह मनुष्य को की श्रोर प्रेरित कर सके । नेतिकता व श्राध्यात्म विहीन कलाएँ निम्न कोटि की होती हैं । कलाकार स्वयं उस श्रानंदानुभ्ूति तक पहुंचे जिसे ब्रह्मानन्द सहोदर कहा गया है । कला में मनुष्य को मोक्ष मार्ग की श्रोर उन्मुख करने की शक्ति होनी चाहिए | 5 प्रकृति र&पट -- अध्यात्म से जुड़ा होने पर भी कलाकार प्रकृति का सहारा लेता है । प्रकृति की उपमाएँ देता हैं ज॑से मेघ . चाँद इंद्रधनुष | 5




User Reviews

अभी इस पुस्तक का कोई भी Review उपलब्ध नहीं है | कृपया अपना Review दें |

अपना Review देने के लिए लॉग इन करें |
आप फेसबुक, गूगल प्लस अथवा ट्विटर के साथ लॉग इन कर सकते हैं | लॉग इन करने के लिए निम्न में से किसी भी आइकॉन पर क्लिक करें :