मोक्षमार्गप्रकाशक | Moksha Marg Prakashak

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Moksha Marg Prakashak by टोडरमल - Todarmalमगनलाल जैन - Maganlal Jain

लेखकों के बारे में अधिक जानकारी :

टोडरमल - Todarmal

No Information available about टोडरमल - Todarmal

Add Infomation AboutTodarmal

मगनलाल जैन - Maganlal Jain

No Information available about मगनलाल जैन - Maganlal Jain

Add Infomation AboutMaganlal Jain

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
हक हु थिनही|नाकानामेधकं धन घीमानशदधस्वापीवेघरेतुरादधनेद९ग्पादोिद्वातकेसर्धतै/याहीते- | याजासीमयचसंदहहे।व्रगिमरसारमामंट्र सो! ही सील धनग वोनता दाना मेहें॥। रिकाचितालाधिशने धकोव्य चुतारनया।नानिहितीयनामगोमरसारदेयाहे।यहगो मर सारनीय : | चलरपरूनीदेश्ववुस्यारितिशामातमभलतित्रघतहैनोमं सका प्ेशाव्यगरार री रजकापोचयो व रा स्लनभाव्यातित्ारनापमतुश्दार्व बे! व्मरधवलशाल्दनीद्ाकीसितम तवलिव्याचार्यहे॥न तट दि गोमट्सारनीगेगवशक्तिवेयन्यारालमलमहाराजाताकानाधंतेती दपुरराालाकाछ सो काप्निमतयाय योकाब्यवतारमंयाहे।सेनिचेद्रश्ाचार्यनोमूलत्रा उतगा यागंद्रासी १५०५१ सारण व्परतामहितादागीवाकशीरीनावमवरानाचग्सनवशाई तड्िथ्यठ्याति पे नगरतानिपलेरायथ थ्याढोर “सम यलेकद्रावकवरीताकय्यतत्वारिटिराशरेशविशल ग़ादिटरगवेषेटेटपिमस्लनीदेछुरप दोनदिी यसम्ए | रसेसव्पलेबारगतिश्यादिशाहेयारगामी खेद मसल न वेगसम्यडहलीनायं! ग्र ं रजीसपए0सारनीस का संगेभश्सारनोयातीनंक्रिरीदाहमारश्व्वावणगदालिरीनपामययचनका3परे गचानीचदाकीसंसयतरीकाकेअनुस्टारनायारी साधना रतासीमोम सम्युलामंदकाहे तासीमतिमी ययसंथ्या।यरे लादाई लिन थर्मसोम दी माओयरपेदरोापानकी महिला हित या सिद्दो तसाजेठन जा हुलारनिलाखलारनीसाटी्ा।बादारा हजारो समाएप्रया शड़ग्रेस नाप तीऊ) रएसमववनीपिलीलालवरमटीम्यायरतभरवकतिकेगस्तसी वश गन पररकस से सिएरे।नोमरस्थापनार फेंग शनि डाल' भावशपाशात्रनीदाकती शोत्रयीडी श्योदिम शध्यत वि 'प्ययतात्सरदड्रासमररलिहीमगालचरएबो!्शनरविधशाप शरद सपापाहिपयटरैश। : (लिकाउनीपुरपपयमही छह बातवियारिशाल दरों पेमलधनिमस स्् रूत्तोचशलिर/हीकी यहलीनिश्वकरिन्यायारयहेसायी छेशात्वदापरनकर।स्टेसाएयाधफरा तराजधा र पेलनिका-चल्पाग्याघाहि!नादांशलंघन की ये9तरागरनेधेमवर्ननेब्रायलग शो घभ्येसा या दाय्यदीसो नाएध्योप्रमांददा पोचभेरहेसुदहिगहे! घेरा रिमिश्रोररश्टलेचारशवायाहीव्राडूंजानोलएुद सत९॥ श्री दि० जैन मंदिर, ्रलीगंज (जि० एटा - उ० प्र०) में उपलब्ध, विक्रम संवत्‌ १८५४ में लिपिबद्ध 'चर्चा-संग्रह' ग्रंथकी हस्तलिखित प्रतिका पृष्ठ १७३




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now