विनती संग्रह | Vinati Sangrah

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Book Image : विनती संग्रह - Vinati Sangrah

एक विचार :

एक विचार :

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about अज्ञात - Unknown

Add Infomation AboutUnknown

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
१७ जी, चाददी नित साता जी । सुखदाता जग- त्राता, तुम जाने नहीं जी प्रभु भागनि पाये जी, गुण श्रवण सुद्दाये जी । ताकि आयो सब सेवककी, विपदा हरो जी ॥ भववात वसेरा जी, फिरि दोय न मेरा जी । सुख पांवे जन , तेरा, स्वामी सो करो जी ॥ तुम शरनसहाई जी, तुम सजन भाई जी । तुम भाई तुम्दी बाप दया मुझ लीजिये जी ॥ 'भूघर' कर जोरे जी, ठाडो प्रभु औरे जी । निजदास निहार, निर- गय कीजिये 'जी ॥ ँ ्‌ ढाल परधघादी । अहों जगतगुरु एक; सुनियो अरज मारी 1 तुम प्रभु ! दीनदयाल, मैं दुखिया संसारी ॥ इस भववनके मांहि, काठ अनादि गमायो। श्रमत चहूंगतिमांहि, सुख नह दुख बहु पायों ॥ कम महारिषु जोर, एक न कान करे जी । मनमानो दुख देहिं; काहूसो न डरें जी .॥ कबहूं इतर “८. ने




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now