शादी या ढकोसला | Shadi Ya Dhakosla

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Shadi Ya Dhakosla by किशोर साहू - Kishor sahoo

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about किशोर साहू - Kishor sahoo

Add Infomation AboutKishor sahoo

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
समभ सकती हूं; पर जो रिस्ता समभक में नहीं श्राता वह है पति-पत्नी का रिस्‍्ता ! ”””'सुन रहे हो ? कमल _ पढ़े जाशो । ते खन्ना *“ पिता-पुत्र का रियता मैं समझ सकती हूं वयोंकि वह स्वाभाविक है । मां श्रीर बेटे का रिइ्ता, वहिन-भाई का, गुरु- दिप्य का रिश्ता भी समक सकती हूं, क्योंकि थे सब स्वा- भाविक रिश्ते हैं; पर पति-पत्नी का रिद्ता कृत्रिम है, घनावटी है, जिसे समाज ने श्रपनी कामारिन शांत करने के लिए जरूरी करार दिया है । इसीलिए उसने शादी-्याह की रस्म को, जो मेरे ख्याल में बिलकुल ढंकोसला है, धर्म का रुप दिया है, श्रीर हम सबकी नज़रों में इस प्रथा के प्रति, ं श्रादर-भाव पैदा करने की कोशिश की है। मैं फिर कहती हूं, यह शादी नहीं, ढकोसला है ! कया पुरुष श्रौर स्त्री के श्रनेक' रिदतों में कोई कमी थी जो पति श्रौर पत्नी का रिश्ता भी ईजाद किया गया ? गया वहिन-भाई, मां-वेटे के रिश्ते ही काफी न थे जो पति श्रौर पत्नी के रिद्ते की जरूरत पड़ी ? कमल (ठद्दाका मारकर हसता हुमा) तो इसके मानी हुए कि मिस श्राश्य मित्रा, एम० ए०,/ भी० टी० को झ्रभी तक यह भी पता नही कि खन्ना कि झंडे से मुर्गी वनी या मुर्गी से झंडा ! (कमल है पोर खन्ना भी 1) यार तिवारी ! यह भाशा मित्रा कया दादी के खिलाफ है ? दे




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now