पट्ठानपालि भाग - 4 | Patthanapali Bhag - 4

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Patthanapali Bhag - 4  by भिक्खु जगदीसकस्सपो - Bhikkhu Jagdishkassapo

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about भिक्खु जगदीसकस्सपो - Bhikkhu Jagdishkassapo

Add Infomation AboutBhikkhu Jagdishkassapo

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
अधिपतिपच्चयों अनन्तरपच्चयादि उपनिस्सयपच्चयों पुरेजातपच्चयो पच्छाजातासेबन- पच्चया कम्मपच्चयों विपाकपच्चयादि विप्पयुत्तपच्चयों अत्थिपच्चयों सद्भुपा सुद्ध पच्चनीयुद्धारों २. पच्चयपच्चनीय सड्भुघा ३. पच्चयानुलोमपच्चनीय पच्चयपच्चनी यानुलोम ५७, चेतसिकदुकं $ १. पटिच्चवारों १. पच्चयानुलोमं (१) विभड्ो हेतुपच्चयो आरम्मणपच्चयों अधिपतिपच्चयो (२) सद्धधा सुद्ध २. पच्चयपच्चनीयं (१) बिभड़ो नहेतुपच्चयो नआरम्मणपच्चयों प० बन (२) 1 पिट्ट डा देर रेरे द्् ३ ३५ ३६ ३६ ३६ दे ३८ ३८ ३९ 0 ० हा ० ० ्र र्थ्दे दे थे है ड- दे डे प्‌ डे ] (२) सद्धाधा सुद्ध ३. पच्चयानुलोमपच्चनीय ४. पच्चयपच्चनी यानुलोमं $ २. सहजातवारों $ ३ पच्चयवारों १. पच्चयानुलोम १) घिभड़ो हेतुपच्चयो आरम्मणपच्चयों (२) सद्धघा २. पच्चयपच्चनीयं ) विभड़ो नहेतुपच्चयो (२) सडद्धघा सड़ ३. पच्चयानलोमपच्चनीय ४. पच्चयपच्चनी यानलोम ४. निस्सयवारों पिहुड्दूा है. है कर है ५-६. संसट्रवारो-सम्पयुत्तवारो ४९ १. पच्चयानलोम (१) विभज्ो हेतुपच्चयो सड्भुचा २. पच्चयपच्चनीयं १) विभड़ो (२) सड्भु्ा पडहावारों १. पच्चयाचुलोम ४९ ९ डर हु ठ पद 9 प्द्ठ ० पशु ५१




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now