श्री तीर्थङ्कर-चरित्र [भाग २] | Shri Tirthankar-Charitra [Part 2]

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Shri Tirthankar-Charitra [Part 2] by बालचन्द श्रीश्रीमाल - Balchand Shreeshreemal

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about बालचन्द श्रीश्रीमाल - Balchand Shreeshreemal

Add Infomation AboutBalchand Shreeshreemal

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
९ कै, थातकी खरड द्वीप के पूर्वीय भाग के ऐरावत क्षेत्र में, श्रि्रा नाम की एक नगरी थी । वहाँ पद्मरथ नाम का राजा राज्य करता था, जिसने अपने पराक्रम से, अनेक राजाओं को जीत कर 'झपने वश कर रखा था । राज्य-सम्पदा से सम्द्ध होने पर भी, पद्यरथ, उसमें फँसा हुआ दी नहीं रद्दा, किन्तु मुक्ति-- लक्ष्मी को प्राप्त करने के लिए उसने, समस्त ऋद्धि दृण के समान त्याग दी श्मीर चितरक्ष नाम के शुरु के समीप संयम में श्रवर्जित हो गया । प्रमाद रदित संयम की आराधना करने के साथ दी, ब्हन्त सिद्ध को भक्ति द्वारा तीथटर नाम का घन्ध किया । अन्त में, श्ाराधिक थो, प्राणत कर्प के पुप्पोत्तर विमान में, वीस सागर की स्थिति चाला उक्तप्ट देव हुआ । श्रुतिम सब । दाग है जम्यू द्वीप के भरताद्ध में, सरयू नदी के किनारे, 'अयोध्या नाम की प्रसिद्ध एवं पवित्र नगरी हे । अयोध्या में; इंध्वाकुवंश के राजा सिंहसेन, राज्य करते थे । सिंदहसेन की रानी का नाम ' सुयशा था, जो श्वसुर एवं पिता के वंश के लिए यश की मूर्ति के समान थी । प्राणत देवलोक के सुख भोगकर 'त्रोर वहाँ का आयुष्य




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now