समझौता | Samjhota

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Samjhota by इस्मत चुगताई - Ismat Chugataiख्वाजा अहमद अब्बास - Khwaja Ahamad Abbas

लेखकों के बारे में अधिक जानकारी :

इस्मत चुगताई - Ismat Chugtai

No Information available about इस्मत चुगताई - Ismat Chugtai

Add Infomation AboutIsmat Chugtai

ख्वाजा अहमद अब्बास - Khwaja Ahamad Abbas

No Information available about ख्वाजा अहमद अब्बास - Khwaja Ahamad Abbas

Add Infomation AboutKhwaja Ahamad Abbas

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
अहमद भाई सूरत वाला, दूसरे दिन झाये। कोई पंतालीस साल उम्र; मेला पायजामा, कत्थई 'श्रचकन,रूमी टोपी पहने 1-'.. « उन्हें देखकर. बेगम धवक - से रह गयी ।' सोचा--मेंहुदी की जगह यह अल्लाह का बन्दा ख़िज़ाब लगाये तो इतेना भोंडा न लगे । अहमद भाई एक नेकूलिस लाये थे, जो उन्होंने मासूमा को दे दिया । 'ऊ हम नही लेते ।” मासूमा ठुनकने लगी । “क्‍यों जी ?” श्रहमद भाई पान भरे दात निकोस कर बोले ! “क्यों से ?”*”*हमें नही भ्रच्छा लगता ।”” न, “नई श्च्छा लगता तो दूसरा लायेंगा वाबा 1” *' “हम दूसरा भी नहीं लेंगे ।” मासुमा खिलखिलाकर हंसी श्रौर कमरे से बाहर भाग गयी । अहमद भाई इस श्रदा पर लोट-पोट हो गये | * ग्राज 'छोकरी ,को जोह ले जावे ? जरा तुम वोली न ।”” उन्होंने ठुनक कर एह्सान साहव के कान में कहां 1 “अम्मा जरा लगीमें दाव के, हां !' वरना यार, सारा मसला चौपट हो जायेगा 7 रह. ' 2) “साला पैसा ज्यास्ती मागता तो वोई वात नही” हम ' देगा बाबा ! श्रहमद भाई विलविलाये'। हर फ “ग्रे यार पैसे की बात नही । ऊंचे घराने की लौडियां है'”'सलोना बरसे लगा है। ' किसी में श्रांज तक छसेकां श्रांचल भी नहीं देखा । इतनी तावली नहीं चनेगी, जल्दी का काम शेतान की ।”” एहसान ने' सर्मसीधा । मो पर जब वेगंम को एहसोन मिया की दल्लाली का पता चला तो उनकी ” सूखी झखों में शोले भड़क उंठे 1 17 । “सूरत रतो देखो झडेसे की मेरी नाजुक-सी वच्ची को 'बस, यंहू कीड़ों भरा कबाब ही रह गया है, मुझा कल की सौंडिया से शादी करेंके दाडी '्कों कालिख लगवायेगा ।” 4 हवा रची शाइन 1 किदसय 11 मगर दड़ी मीठी जदान में एड्सान मियां मे “समझाया कि अहमद भाई ऐसे कमीने नही, जो निकाह करने की गुस्ताखी करें1: निकाह ती «हूँ .कर सी नहीं' सकते; उनके ' सैसुर बडे :अंसर वाले:्रादमी हैं,? चंदिया;फर छुक बाल के श्प दो वि जा उमाामाय सेमसीता | 35




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now