जैन भजन रत्नावली | Jain Bhajan Ratanavali

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
श्रेणी :
शेयर जरूर करें
Jain Bhajan Ratanavali by न्यामत सिंह - Nyamat Singh

एक विचार :

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

न्यामत सिंह - Nyamat Singh के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है | जानकारी जोड़ें |

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(देखने के लिए क्लिक करें | click to expand)
प्र र्श[ चाझ- | नांटस [ लोन कष्टरदा ] नोट--राम का लक्भन को सीवा की तलाश करने का इुक्म देना ।देखो लडमन इयर उपर फर टोकझर तीर समान संगक्ष देखो-दरिया देखो-देखो थूम घमान | सिर कदर दे अन्दर याइर-जहां कईी मिले निशान / मेरो हाल-रं बेशल-जी निषाएं- इखकाल-पर खयाल ॥ देखो सक्बय० | जल्दी गगन करो-देरी नहीं करो । मेरे बन का गम इरो-फरमें धतुष बरो- करके ध्यान ॥ देवों लद॒प्रन ० ॥ भ्छ [ चाल ] नाटक [ताज करवा मेरी रानी ली सानी क्या डर है नोट- लच्पण का ख्ूर दुषन से लड़ने . दे दिये राबचद्र जी से आशा मांगना |! मुझे नानेदो शा कर इर हैं, तुस्टें काइका पता फिकर हैं ले भनुषदाण माता हूं , इस सूयकों गिय आता हूं अभीला, दर दिखा, झाम पनाएँ जस्ट्री शा | दिल में न कोई फिकर हैं, दुस्दें काई का एता फिफर है।




User Reviews

अभी इस पुस्तक का कोई भी Review उपलब्ध नहीं है | कृपया अपना Review दें |

अपना Review देने के लिए लॉग इन करें |
आप फेसबुक, गूगल प्लस अथवा ट्विटर के साथ लॉग इन कर सकते हैं | लॉग इन करने के लिए निम्न में से किसी भी आइकॉन पर क्लिक करें :