मेवाड़ गाथा | Mevaar Gaatha

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
शेयर जरूर करें
Mevaar Gaatha by पाण्डेय लोचन प्रसाद - Pandey Lochan Prasad

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

पाण्डेय लोचन प्रसाद - Pandey Lochan Prasad के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है | जानकारी जोड़ें |

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(देखने के लिए क्लिक करें | click to expand)
बचे बाग, अनाथ, हि अधरे प्र११२ररे(३) प्रस्तावना ।बा ला, हा लंच अप, अभि हक, अत, अर # चिता अधि अगर #च कद, आई, सच, कप लक, जग अधिक की पचि अ्ि #ि हि #च से साध ले, हक, अत, अलग, हू, अभि, अभि, बैन, # रण, सचि का शीए वे, सि अनि अचे, हि /िकेप्राण देकर भो विमल निज मान रखने को प्रथा ।' शुचि स्.ति जिसकी हृदय को मा-भौमिक-भत्ति से, पूण करती भअतुलनोया दिव्य वेद्यत शक्ति से ॥ व वनिता बाल रखते ध्यान अपने मान का, मोह कुछ रखते न वे निज देह अधवा प्राण का। नष्ट हो सवेस, न पर बे त्यागते निज भीरता, ध्येय उनको मुख्य छोतो देशको खाधोनता ॥ गेह धन खो, नित्य चाहै विपिन में फिरना पढ़े, नित्य हो पद पद व्यथा दुख गत्ते ' में गिरना पढ़े, हार उनका ढ़ छइृदय तो भो कदापि न खायगा, अशग्नि-व्वाला तुल्य ऊपर को सदा हो जायगा ॥ देश गौरव रक्षणाथ सचेप्ट रहते हैं सभो, नाम फिर उनका कलझ्ित दया कहों होगा कभो ! पुत्र, दुच्चिता, स््रात, सब सड़ोत यह गाते सदा :-- “डेश-बलि के सामनी है तुच्छ सारो सम्पदा !” शौर्य साइस देख जिनके श्र, कहते “धन्य है, “वोरता में विख में तुमसा न कोई अन्य है।” छल रहित यह बीरता संसार में आदश है, सन्णों का घास पूज्य पवित्र भारतवर्ष है ॥ है सुसाधक मित्र ! सबला नाम अबला का यहीं;नारियाँ मेवार को सो क्या गई पाई. कह्ों ?प्‌ * गत्त -गढढ़ा ।




User Reviews

अभी इस पुस्तक का कोई भी Review उपलब्ध नहीं है | कृपया अपना Review दें |

अपना Review देने के लिए लॉग इन करें |
आप फेसबुक, गूगल प्लस अथवा ट्विटर के साथ लॉग इन कर सकते हैं | लॉग इन करने के लिए निम्न में से किसी भी आइकॉन पर क्लिक करें :
Do NOT follow this link or you will be banned from the site!