सम्यक्त्व विमर्श | Samyaktva Vimarsh

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
शेयर जरूर करें
Samyaktva Vimarsh by रतनलाल जोशी - Ratanlal Joshi
लेखक :
पुस्तक का साइज़ :
10 MB
कुल पृष्ठ :
328
श्रेणी :
हमें इस पुस्तक की श्रेणी ज्ञात नहीं है |आप कमेन्ट में श्रेणी सुझा सकते हैं |

यदि इस पुस्तक की जानकारी में कोई त्रुटी है या फिर आपको इस पुस्तक से सम्बंधित कोई भी सुझाव अथवा शिकायत है तो उसे यहाँ दर्ज कर सकते हैं |

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

रतनलाल जोशी - Ratanlal Joshi के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है | जानकारी जोड़ें |

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(देखने के लिए क्लिक करें | click to expand)
संस्कृति रक्षक संघ साहित्य रत्तमाला का २० वाँ रत्नसम्यक्त्व विमर्शपथ दकष्ट।परसत्यसथवों वा, सुदिहुपरसत्थसेवणा वादि । वावण्णकुदं सण-वज्जणा, य सम्मत्त-सद्दृहणा ॥1-परमाथे का १ संस्तव-परिचय एवं कीतेन करना, २ सुदृष्ट-परमार्थ के ज्ञाता की सेवा करना, ३ सम्यक्त्व से पतित की संगति का त्याग करना और '४ कुदशंन-मिथ्यादशेनी की सगति का त्याग करना । (उत्तराध्ययन २८)जीव, बेभान श्रवस्था में श्रनस्त काल रहा । भ्रनादि काल से जीव मिथ्यात्व की श्रवस्था में रहता श्राया । जीव का श्रघिकांश काल झ्रसंज्ञी अवस्था में ही गुजरा, जिसमे किसी विषय पर विमर्श करने की शक्ति ही नहीं थी । मन के श्रभाव मे वह किसी विषय पर विमर्श कर ही नही सकता था । सम्यक्‍्त्व ही कया, वह मिथ्यात्व के विषय मे भी नही सोच सकता था |




User Reviews

अभी इस पुस्तक का कोई भी Review उपलब्ध नहीं है | कृपया अपना Review दें |

अपना Review देने के लिए लॉग इन करें |
आप फेसबुक, गूगल प्लस अथवा ट्विटर के साथ लॉग इन कर सकते हैं | लॉग इन करने के लिए निम्न में से किसी भी आइकॉन पर क्लिक करें :