सूर्य साहित्य पार्ट - १ | Surya Sahitya Part-1

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
शेयर जरूर करें
Surya Sahitya Part-1 by उमेश मुनि - Umesh Muniसूर्य मुनि - Surya Muni
लेखक :
पुस्तक का साइज़ :
9 MB
कुल पृष्ठ :
288
श्रेणी :
हमें इस पुस्तक की श्रेणी ज्ञात नहीं है |आप कमेन्ट में श्रेणी सुझा सकते हैं |

यदि इस पुस्तक की जानकारी में कोई त्रुटी है या फिर आपको इस पुस्तक से सम्बंधित कोई भी सुझाव अथवा शिकायत है तो उसे यहाँ दर्ज कर सकते हैं |

लेखकों के बारे में अधिक जानकारी :

उमेश मुनि - Umesh Muni

उमेश मुनि - Umesh Muni के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है | जानकारी जोड़ें |

सूर्य मुनि - Surya Muni

सूर्य मुनि - Surya Muni के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है | जानकारी जोड़ें |

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(देखने के लिए क्लिक करें | click to expand)
अम्तर्‌ वैश्नव [१ चे२०](क्रम की समझ--) अहृष्ट दिव्वास, (१ से ६)(१) नियति, (२) कर्मफल, (दे-४) पापोदय, (५) पुण्योदय, (६) कर्मफल-विकवास,शाव-चरण (७ से २३)(७) आत्म-विस्मृति, अज्ञान के तीन कारण- (८) जडता, (९) पूर्व-व्युद्याहिता, (१०) अन्य-मनस्कता, हष्टि के रूप (११) सम्यग-असम्यग हष्टि, (१२) दृष्टि भेद, (१३) इहलोक हप्टि, (१४) परलोक दृष्टि, बृद्चियों के रूप-( १५) सदसद्‌ वृत्तियाँ, (१६) ब्वान वृत्ति, (१७) यशोलिप्सा, (१८) विकृत वृत्ति का प्रभाव, (१९) ठगवृत्ति, (२०) क्लीवता, (२१) क्षमावृत्ति (२२) नि स्पृहता, (२३) आत्मजयीबुद्धिबल (२४ से ३०)(२४) बुद्धि की प्रधानता, (२५) बुद्धि की जड़ा, (२६-२७) प्रत्युत्पन्नमति, (२८) सारास्वेषिणी बुद्धि, (२९) परोपकारिणी बुद्धि, (३०) आत्म-सरक्षिणी बुद्धि ।[गुद्ध श्रद्धा से भाव-विशुद्धि होती है और भाव-विशुद्धि से बुद्धि- बल का आविर्भाव होता हैं । शुद्ध-श्रद्धा, भावविशुद्धि और निर्चछ प्रजा-ये अन्तर्‌ वेभव के तीन रत्न है। ]




User Reviews

अभी इस पुस्तक का कोई भी Review उपलब्ध नहीं है | कृपया अपना Review दें |

अपना Review देने के लिए लॉग इन करें |
आप फेसबुक, गूगल प्लस अथवा ट्विटर के साथ लॉग इन कर सकते हैं | लॉग इन करने के लिए निम्न में से किसी भी आइकॉन पर क्लिक करें :