प्रारंभिक रचनाएँ भाग - १ | Praarambhik Rachnaaen Bhag - 1

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
शेयर जरूर करें
Praarambhik Rachnaaen Bhag - 1 by बच्चन - Bachchan
लेखक :
पुस्तक का साइज़ :
10 MB
कुल पृष्ठ :
70
श्रेणी :
हमें इस पुस्तक की श्रेणी ज्ञात नहीं है |आप कमेन्ट में श्रेणी सुझा सकते हैं |

यदि इस पुस्तक की जानकारी में कोई त्रुटी है या फिर आपको इस पुस्तक से सम्बंधित कोई भी सुझाव अथवा शिकायत है तो उसे यहाँ दर्ज कर सकते हैं |

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

हरिवंश राय बच्चन - Harivansh Rai Bachchan के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है | जानकारी जोड़ें |

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(देखने के लिए क्लिक करें | click to expand)
मगलारभन प्रियतम, मैंने बनने को तेरी सुंदर श्रीवा का हार, ललित बहिन-सी कलियाँ छोड़ीं, भाई-से.... पल्लल.... सुकुमार, साथ-खेलते. फूल, खेलती-हा हिसाथ तितलियाँ विविध प्रकार, गोद-खेलाते हुए... पिता-से पौचे का मद स्नेह अपार, मात्य-सी प्यारी क्यारी का सहज सलोना, 'सरल डुलार, बाल्य-सुलभ-चांचल्य चपलता छोड़ी, बँधी नियम के तार, छोड़ा निज... क्रीड़ाशुभस्थली शुभ्न वाटिका का. घर-द्वार; 'प्रियतम, बतला दे झाकर्षषक है क्यों इतना तेरा प्यार !सार प० २




User Reviews

अभी इस पुस्तक का कोई भी Review उपलब्ध नहीं है | कृपया अपना Review दें |

अपना Review देने के लिए लॉग इन करें |
आप फेसबुक, गूगल प्लस अथवा ट्विटर के साथ लॉग इन कर सकते हैं | लॉग इन करने के लिए निम्न में से किसी भी आइकॉन पर क्लिक करें :