वर्तमान परिवेश में पुरानों के शैक्षिक निहितार्थ एक समालोचनात्मक अध्ययन | Vartman Parivesh Me Purano Ke Kshaishik Nihitarth Ek Samalochanatmak Adhyayn

Book Image : वर्तमान परिवेश में पुरानों के शैक्षिक निहितार्थ एक समालोचनात्मक अध्ययन - Vartman Parivesh Me Purano Ke Kshaishik Nihitarth Ek Samalochanatmak Adhyayn

एक विचार :

एक विचार :

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about राजकुमार - Rajkumar

Add Infomation AboutRajkumar

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
5. ... पौराणिक अन्तर्वस्तु का वर्तमान शिक्षा व्यवस्था मे प्रासंगिकता .व उपयोगिता की दृष्टि रो आलोचनार्मक मूल्यांकन करना । शोध परिकल्पना निःसन्देह किसी राष्ट्र की शिक्षा नीति व शिक्षा व्यवस्था अनेक कारकों से प्रभावित होती है। विगत व वर्तमान रागाजिक सांस्कृतिक तथा आर्थिक परिरिथत्तियां एवं रागरयाएं, दार्शनिक दृष्टिकोण व्यक्तिगत एवं राष्ट्रीय आवश्यकताएं व आकांक्षाएं एक सुस्पष्ट, . व्यावहारिक तथा प्रभावी शिक्षा व्यवस्था की निर्धारक तत्व होती हैं। वर्तमान का सही ढंग से अवबोध करने तथा वर्तमान की समस्याओं का निराकरण करने में अतीत की घटनाओं व उनकी परिणामों का वस्तुनिष्ठ ढंग से विश्लेषण अत्यधिक उपयोगी होता है। पुराणों की वर्ण्य सामग्री यथावत अपने समग्र रूप में वर्तमान भारतीय परिस्थितियों में सर्वसम्मति से . स्वीकार्य हो, यह मानना तो उचित न होगा, परन्तु निश्चय ही उसमें अनेक ऐसे तत्व होंगे . जो आधुनिक समय में भी पूर्णत: अपनी प्रासंगिकता व उपयोगिता रखते हों । आधुनिक समय में जबकि भौतिकतावादी दृष्टिकोण एवं आध्यात्मिकता में संतुलन स्थापित किया जाना अपरिहार्य प्रतीत होता है, इस स्थिति में पुराणों की विषय-वस्तु शिक्षा व्यवस्था के लिए लाभकारी मार्गदर्शक तत्व उपलब्ध करा सकती है। अत: प्रस्तुत शोध इस परिकल्पना पर आधारित है कि पुराणों की शिक्षाएं, शिक्षा दर्शन एवं वर्ण्य-विषय वर्तमान परिस्थितियों में व्यवहार्य तथा उपयोगी हैं । प्रयुक्त शब्दों का परिभाषीकरण पुराण- पुराण शब्द की व्युत्पत्ति पाणिनी यास्क तथा स्वयं पुराणों ने भी दी है। प् इसका अर्थ है- पुरातन, प्राचीन, पूर्वकाल में होने वाला। यास्क के निरुक्त के. अनुसार पुराण का अर्थ है- 'पुरा नवम्‌ भवति', अर्थात जो प्राचीन होकर भी नया होता है। वायु... पुराण के अनुसार इसकी सकी व्युत्पत्ति है- पुरा अनति', अर्थात प्राचीन काल में जो जीवित... ,




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now