समयसार | Samayasaar

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Samayasaara by कुन्दकुन्दाचार्य - Kundkundacharya

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about कुन्दकुन्दाचार्य - Kundkundacharya

Add Infomation AboutKundkundacharya

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
(१) घेदिचु सब्वसिद्ध धुवमचलमणोवम गई पत्ते चोच्छापि समयपाहुडपिणमों सुयकेवलीमाणियं ॥। '्याचाय कहते हैं; में भ्रूव अयल 'र अनुपम इन तीन विशेषशोकरर युक्त गनीकों प्राप्त हुए ऐसे सब्र सिद्धोंकों नमस्कार कर हे भत्यों श्रूतफेयलियोंकर के हुए इस समयसार नामा म्राभ्नत को की कह्दूंगा ।




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now