ज्योतिर्विनोद | Jyotirvinod

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
श्रेणी :
Book Image : ज्योतिर्विनोद  - Jyotirvinod

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about डॉ सम्पूर्णानन्द - Dr Smpurnanand

Add Infomation AboutDr Smpurnanand

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
डिए गए हैं क्योंकि इनमें से एक से दूसरे में जाने में सूथ्य की चराबर समय उगता दे। यद्द समय एक मास के छग भग द्योता है । इन मुख्य तारासमूहों को राशि फदते हूं और राशियों के समूद को राशिचक कददते हैं। इन राशियों के लाम ये हैं-7 भेप 65 सिंद॒ 1.60 घन ऊट्टांघकशी एव चूपभ ''धपत्पड | कन्या. ए्एुए मिथुन (6०७10 | तुढा जएर& कुंब 5.चृपहा पड करके. (सएल्‍्णा वृद्धिक 8०्णफां० | मीन ए15525. इचना स्मरण रखना 'चादिए कि चैत्र के सद्दीने में सूरय्म मकर (8०011 ए8




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now