भारत का रक्षा - संगठन | Bharat Ka Raksha Sangathan

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
श्रेणी :
Book Image : भारत का रक्षा - संगठन - Bharat Ka Raksha Sangathan

एक विचार :

एक विचार :

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about डॉ० प्रभुदयाल अग्निहोत्री

Add Infomation About

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
दर भारत का रक्षा-मंगठन पर पूति, परिवहन, आपुधसामद्री ( आईनेंस ), और सेन्य निर्माण-कार्य की जिम्मेदारी थी । बह सेन्य-वित्त बनाने के लिए भी उत्तरदायी था । संन्य-विभाग की भूमिका उस समय का मैन्य-विभाग अपने अधिक्ार-क्षेत्र में मौलिक काम तो करता ही था, साथ ही सेना-मुरयालय या चारो मेना-तमानो से सीये ही आने वाले सभी प्रस्तावों की स्वतम जाँच भी बरता था । फलत अपने समक्ष आने वाने और उसके द्वारा सूवपात किये जाते वाले सभी प्रम्तावी के लिए वह अपने कागज-पन्न रखता था, जिसमे विभाग में छपेक्ित मात्रा में सातत्य बना रहे । विभाग में तीन प्रभाग थे, अर्यातू सैन्य, प्रशासन और वित्त । बरित्तश्रभाग महानसाकार, सेन्प-विभाग के अधीन था, जो सभी सेन्य और नौसंनिक मामलों मे भारत सरकार का वित्तीय सलाहकार था । दूसरे शब्दों में वित्त-प्रमाग मैन्य-विभाग का हो एक अंग था । नीचे लिखे आरेख में सारा ढोचा स्पप्ट हो जाता है 1 आरेख-ै सपरिपद गवर्नर-जनरल [यश सेना सदस्य, सेना के प्रधासनिक कार्य के कमाडर-इने-चीफ, वमान और लिए गिम्मेवार, भारत सरकार का कार्यपालक बाय के लिए जिम्मेवार प्रत्िनियित्व बरने वाले और उसके आदेश जारी करने वाले का एडजुटेंद . बवार्टर मारटर. प्रधान चिकित्सा मेन्य विभाग का सचिव जनरल जनरल अधिकारों नर व भारत वे... सम्भरण बौर सेन्य निर्माण वित्त के आइंनेंस वे. परिवहन के. बायों के उपसचिव महानिदेशक मटानिदेशक महानिदेशक ऊ उस समय अपनायी जाने वालो कार्यविधि यह थी कि सेता-कमानों या. मेना-मुख्यालय मे घतो वाने महत्वपूर्ण मैन्य-मुवार या व्यय को अन्तप्रेस्त करने वाले सभी प्रस्ताव सैन्य-तेसा- निपस्त्रर वे जरिए सेन्य-विमाग को भेज दिये जाते थे । फिर मैन्य-विमाग में इनकी वित्तीय बौर प्रशासनित्र, दोनो हो दृप्टियों से जाँच की जाती थी । जो श्रस्ताय सेना-मदस्प द्वारा अनु- मोदित हो जाता था, उसे वित्त विमाग को भेज दिया जाता था और अगर दित्त-विमाग भो मान लेता था तो उस मामते को अनुमोदन के लिए गवर्नर जनरल वे पास भेज दिया जाता € इस पद को बाद ( १६२१) में इजीनियर-इन-चीफ नाम दिया गया !




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now