चोखे चोपदे | Chokhe Chopadey

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Book Image : चोखे चोपदे - Chokhe Chopadey

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about अयोध्या सिंह उपाध्याय हरिऔध - Ayodhya Singh Upadhyay Hariaudh

Add Infomation AboutAyodhya Singh Upadhyay Hariaudh

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
मासर में सागर 'हों कहाँ पर नहीं भलक जाते | पर हमे ग्तो द्रख: छा सपना ॥ कब छुआ सामथा नही, श्र हम. । कर सकें स्पमनि सु अपना... जा अंधेंस है बस जी में उसे । हम अंघेरे में कड़े खाते नही ॥ उस जगत की जात की भी जात के | जातवाले नख' श्रगर होते नहीं ॥ लेक को निज नई कला दिखला । पा. निराली दमक दमकता है ॥ दूज_का चन्द्रमा, नहीं है. यह। पद चमकदार लख चमकता है ॥ कर जब ' झासमान की रगत। पए'खितारे न रंग लाते हैं॥ ब्रनगिनत हाथ-फॉँच शाले के । मख,. जगा. जात जममगाते हे ॥




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now