स्यादवाद ज्ञान गंगा | Syadvad Gyan Ganga

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
शेयर जरूर करें
Syadvad Gyan Ganga by ज्ञानसागर जी महाराज - gyansagar ji maharaj
लेखक :
पुस्तक का साइज़ : 11.86 MB
कुल पृष्ठ : 350
श्रेणी :
हमें इस पुस्तक की श्रेणी ज्ञात नहीं है | श्रेणी सुझाएँ


यदि इस पुस्तक की जानकारी में कोई त्रुटी है या फिर आपको इस पुस्तक से सम्बंधित कोई भी सुझाव अथवा शिकायत है तो उसे यहाँ दर्ज कर सकते हैं |

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

ज्ञानसागर जी महाराज - gyansagar ji maharaj

ज्ञानसागर जी महाराज - gyansagar ji maharaj के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है | जानकारी जोड़ें |
पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश (देखने के लिए क्लिक करें | click to expand)
इस चौमासमे महाराष्ट्र मध्यप्रदेश राजस्थान उत्तर प्रदेग आदि प्रातोके लोगोने धार्मिक भावनासे प्रेरित होकर यहाँ भक्ति आनदमे सराबोर हुए उन सबका में हार्दिक ऋणी हूँ । ऐसे ही अनेक धर्म-कमं मेरे हाथोसे भविष्यम होनेके सुअवसर मुझे मिलते रहे और भा विमलसागरजी आ देशभूषणजी आ निर्मल सागरजी आदिके आशीर्वादसे अनेक धर्मं-कार्योकी प्रेरणा मुझे मिलती रहे यह ही मेरी उत्कट इच्छा हैं। वैसेही उपाध्याय भरतसागरजी मुनिसंघके क्षुल्लक तथा माताजी इनके भी आशिपष मुझे हमेशा मिलते रहे ऐशी महावीर भगवानके चरणोमे प्राथ॑ना । परमपूज्य आचार्येश्री जीकी ६५ वी जयतीके शुभावसरपर मुझे सपारिवार शरीक होने का सौभाग्य मिला इसमे मे खुदका भाग्योदय समजता हूँ । आचार्यश्री विमलसागरजी दीर्घायु होने और धर्म-प्रभावना करके जेन धर्म की कीति बढाते रहे इसके अलावा क्या मॉाँगू भगवान महावीरसे ? मुझे चाहिए केवल उनका आर्शीवाद और प्रेरणा ।




  • User Reviews

    अभी इस पुस्तक का कोई भी Review उपलब्ध नहीं है | कृपया अपना Review दें |

    अपना Review देने के लिए लॉग इन करें |
    आप फेसबुक, गूगल प्लस अथवा ट्विटर के साथ लॉग इन कर सकते हैं | लॉग इन करने के लिए निम्न में से किसी भी आइकॉन पर क्लिक करें :