श्री जैन रामायण | Shri Jain Ramayan

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
श्रेणी :
Book Image : श्री जैन रामायण - Shri Jain Ramayan

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about मूलचंद्र जैन - Moolchandra Jain

Add Infomation AboutMoolchandra Jain

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
स्वयम्बर आादश {२६५ भिहल-स्यो याद किया है बता कया भाड़ लाया हैं । चोधदारे-मेहीराज जल्द चलिये कि दर्दार भाप है। अमिदलल- दार से तो मुझको नहीं कों कामं ६१ चपलबेग का यह नजाग देखकर तीज्जुषमे राना घोर पुना चपलंवग रे! कुंबर झान यह तेलार तो वदशत कसी | किसिकी इन्त में बनाई है यद सूरत देसी ॥ भामंडल--र्या बताउं हुमें इस वक्त हैं हालत कैसी । चस में भपने नहीं पूछो न यदं तवियंत सी । चपलदेग--पष्ं केवर जी क्या, भाज बेहशत ह तुमको 1 खयाले सनम से जो, उन्पूत दै तुप ॥ भामंडल--मुनी एक तसवीर, दे गये हैं मुंभकों 1 हुआ देख शैदा मुनाउं क्या 'तुर्भको ॥ चपलबेग--कहीं करने की सच्ची होती हैं बातें | अजब तरह की ये मुददव्यत है तमफों ॥ उठों कबरां जल्दी से, पोशाक बदली । इमेशा से जसी की शादत थी तुमकी !। भागंडल-पह समर इव सही, शरदं न फुरसत हूं मुकफों ! करू याद उसकी, सुनारं क्या तुमको ॥ चपलबेंग का गाना फुंबर भंग नाम, उसका तुम वतामों | है रहना उसकां कहां; मुकसे जताश्री ॥ जो हो स्मान में छिन भर में लायं । न्मी को फट फर पाताल जाउं ॥ „ करू जेर शृ दुनिया को झब में । लाव उसको उठा ताकत ये पभम ॥ भामंदल (गनौ ) नाम: हैं जानकी, सुन उस परी का | रुप सम्दर जी, रधान सका ॥!




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now